Sep 23, 2017

सुषमा स्वराज ने UN में सीना ठोंककर गिना दिए मोदी सरकार के काम, सुन लो कांग्रेसियों तुम भी


sushma-swaraj-praised-modi-sarkar-top-schemes-to-transform-india

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज यूनाइटेड नेशन जनरल असेम्बली में भारत की तरफ से भाषण दिया. उनके भाषण की हर तरफ प्रशंसा हो रही है. उन्होंने आज भारत में मोदी सरकार द्वारा उठाये जा रहे विकास के क़दमों का बखान किया, उन्होंने मोदी सरकार की उन योजनाओं का नाम बताया जिसकी वजह से भारत तेजी से विकास और आत्मनिर्भरता की तरफ अग्रसर है - जनधन योजना, मुद्रा योजना, उज्ज्वला योजना, स्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया.

सुषमा स्वराज ने कहा कि योजनायें तो अनेक हैं लेकिन समय की कमीं के कारण मैं केवल तीन योजनाओं का संक्षेप में वर्णन करना चाहती हूँ. सबसे पहली है जन धन योजना जिसके अंतर्गत हमने विश्व का सबसे बड़ा आर्थिक समावेश किया है. जिन गरीबों ने कभी बैंक का द्वार नहीं देखा था, ऐसे 30 करोड़ लोगों को हमने बैंक के अन्दर पहुँचाया. उनके बैंक खाते खुलवाये हैं, जिनके पास पैसा नहीं था उनका 0 बैलेंस से खाता खुला है, दुनिया में किसी ने सुना नहीं होगा कि एक व्यक्ति के पास पैसा नहीं है लेकिन उसके पास बैंक की पासबुक है. ये जो असंभव जैसी चीज थी ये भारत ने संभव करके दिखायी है.

सुषमा स्वराज ने कहा कि 30 करोड़ लोग, ये छोटा आंकड़ा नहीं है, अमेरिका की समूची आबादी है 30 करोड़, हमने 30 करोड़ लोगों को मिशन मोड में बैंक से जोड़ने का काम किया. कुछ लोग अभी बचे हैं लेकिन कार्य जारी है क्योंकि हमारा लक्ष्य 100 फ़ीसदी लोगों को इससे जोड़ना है. 

सुषमा स्वराज ने मुद्रा योजना की तारीफ करते हुए कहा कि यह योजना उन लोगों के लिए चलायी जा रही है जिसके पास बिजनेस करने के लिए पैसे नहीं हैं, इस योजना के अंतर्गत केवल उसे लोन दिया जाता है जिसे बैंक से कभी भी कर्ज नहीं मिला. मुझे बताते हुए ख़ुशी है कि इस योजना के अंतर्गत 70 फ़ीसदी से ज्यादा ऋण केवल महिलाओं को दिया गया है. 

सुषमा स्वराज ने कहा कि बेरोजगारी गरीबी को जन्म देती है इसलिए स्किल इंडिया योजना के अंतर्गत हम गरीब और माध्यम लोगों के लिए उनकी स्किल के अनुसार पहले उन्हें कौशल दे रहे हैं और उसके बाद मुद्रा योजना, स्टार्ट अप इंडिया, स्टैंड अप इंडिया योजना के अंतर्गत हम उन्हें स्वरोजगार के काबिल बना रहे हैं.

इसके बाद सुषमा स्वराज ने उज्जवल योजना का जिक्र करते हुए कहा कि गरीब महिलाओं के लिए रोज रोज रसोईं का ईंधन जुटाना एक कष्टदायक प्रक्रिया है, उसके बाद उस धुंवे से उनकी ऑंखें रोजाना अंधी होती चली जाती हैं, इन दोनों पीड़ाओं से उन्हें मुक्त करने के लिए हम गरीब महिलाओं को मुफ्त में गैस सिलेंडर दे रहे हैं, ये महिला सशक्तिकरण की दिशा में एक बहुत महत्वपूर्ण कदम है.

इसके बाद सुषमा स्वराज ने कहा कि नोटबंदी जैसे साहसिक फैसले ने भ्रष्टाचार पर करारा प्रहार किया है, GST जैसे महत्वपूर्ण निर्णय ने एक राष्ट्र एक टैक्स के सपने को साकार किया है, बेटी पढाओ बेटी बचाओ योजना के तहत जेंडर इक्वलिटी जैसे विषयों पर जोर देकर और स्वच्छ भारत अभियान चलाकर भारत एक सामाजिक क्रांति की तरफ बढ़ रहा है.  सुषमा स्वराज ने यह भी कहा कि बड़े देश तो अपनी क्षमता पर आगे बढ़ जाएंगे लेकिन हमें छोटे देशों की भी मदद करनी चाहिए और वहां पर गरीबी कम करने में अपना सहयोग देना चाहिए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: