Sep 6, 2017

योगी ने शिक्षा मित्रों की कर दी 10000 सैलरी तो लोग बोले 'ये इसके भी काबिल नहीं, कुछ पढ़ाते नहीं'


shiksha-mitra-reality-exposed-in-uttar-pradesh-they-dont-teach

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज टीचर डे पर उत्तर प्रदेश के शिक्षा मित्रों को बड़ी खुशखबरी सुनाई है. उन्होंने उनका वेतन 3500 रुपये से बढाकर 10 हजार रुपये कर दिया है जो अधिकतर लोगों को पच नहीं रहा है क्योंकि लोगों का कहना है कि गाँव के स्कूलों में शिक्षा मित्र पढ़ाने जाते ही नहीं, अगर जाते भी हैं तो टाइम पास करने जाते हैं या हाजिरी लगाने जाते हैं.प्राइमरी स्कूलों में कुछ भी पढ़ाई नहीं होती, कोई माँ-बाप अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने के लिए तैयार नहीं है इसलिए इन्हें 10 हजार रुपये की सैलरी भी अधिक है.

shrikant-sharma-latest-news-in-hindi

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शिक्षा मित्र खुद को पक्का करने और सैलरी बढाने के लिए काफी पहले से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन अधिकतर अभिभावक प्राइमरी स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाने ही नहीं भेजते तो शिक्षा मित्रों की सैलरी एक हिसाब से पैसे की बर्बादी है. 95 फीसदी प्राइमरी स्कूलों की हालत बहुत खराब है. आप खुद देखिये शिक्षा मित्रों के बारे में लोग क्या राय रखते हैं-

एक ने लिखा - यह बहुत गलत है, 10 हजार किस लिए, मैंने उन्हें वास्तव में देखा है, कुछ नहीं पढ़ाते, एक स्पेलिंग पूछो तो नहीं आता है, किस आधार पर पेमेंट मांग रहे हैं. एक अन्य ने लिखा - शिक्षा मित्रों को चेक कीजिये, कोई भी पढ़ाने नहीं आता. केवल हाजिरी लगाकर भाग जाते हैं. एक अन्य ने कहा कि - इन पर कुछ लगाम लगाओ ताकि ये बच्चों को पढाएं और स्कूलों की हालत में सुधार हो. एक अन्य ने कहा कि गाँव में नौकरी के लिए लोग 5000 रुपये में भी तैयार है, सब को निकालो, फिर से नयी भर्ती करो.
shiksha-mitra-reality-uttar-pradesh
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: