Sep 10, 2017

राम जेठमलानी ने किया अलविदा, छोड़कर गए हमेशा के लिए


ram-jethmalani-retire-from-advocate-profession-for-ever

राम जेठमलानी भारत के सबसे बड़े वकील माने जाते हैं लेकिन आज वे हमें हमेशा हमेशा के लिए छोड़कर इस पेशे से रिटायर हो गए. अब वे कभी भी केस नहीं लड़ेंगे. इस वक्त उनकी उम्र 94 साल की है. उनके पास इस वक्त भी केसों की भरमार है, लालू यादव का केस भी वही लड़ रहे हैं. लेकिन आज उन्होने पेशे से रिटायरमेंट ले लिया. अब वे आराम करेंगे. घर पर बैठकर सुख से अपनी जिन्दगी काटेंगे.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राम जेठमलानी ने 70 साल तक वकालत की है. रिटायर होते वक्त वे मोदी सरकार से नाराज दिखे. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की तरह ही इस सरकार ने भी देश का नुकसान किया है. वे इस पार्टी के भ्रष्ट लोगों के खिलाफ लड़ते रहेंगे.

उन्होंने कहा कि देश की हालत सही नहीं है. पूर्व की और वर्तमान की सरकार दोनों ने देश का बहुत नुकसान किया है. मैं देश के सभी लोगों से आग्रह करता हूँ कि जल्द से जल्द इन्हें भी बाहर का रास्ता दिखाएं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

3 comments:

  1. It is easy to criticize rightly or wrongly.But we have to salute those who dedicate themselves to improve things irrespective of where it is situated good or bad.Doing some thing huge like changing the fortunes of a nation needs years of efforts.At times it may look as if things are not working out because no one can be perfect all the time.Changing fortunes of a country may be ever so slow considering the gigantic nature of things.What is needed here is steadfastness and resolve.The present government is exactly doing that and we have to stand behind such efforts.

    ReplyDelete
  2. I wish him a healthy tension free life,he rightly said both parties be fooled the nationals by false promises and false propaganda and there is no will-o-the-wisp visible.

    ReplyDelete
  3. कोई कुछ भी कहे परन्तु इस व्यक्ति ने देश के नागरिकों के साथ गद्दारी की है । इसके लिए मानवता, इंनसानियत, देश, समाज का कोई महत्व नहीं रहा यह पैसे के पीछे पागल था। इसे केवल और केवल मोटी फीस वसूलने के लिए जाना जायेगा । वास्तव में इसने आतंकवादियों, और ऐसे चर्चित देश द्रोहियों, भष्टाचारी नेताओं के केस लड़कर प्रजातंत्र की नीव को ही कमजोर किया। बाकी इसका योगदान समाज और देश के लिए कुछ भी नहीं । हा इसके इस पेशें को छोड़ने से अवश्य लालू, मायावती, सहित भ्रष्टाचारियों को जरूर नुकसान होगा जिनके केस यह लड़ रहा था।

    ReplyDelete