Sep 30, 2017

प्रधानमंत्री मोदी के सामने जलाकर भष्म हुआ रावण, खुश होकर मोदी बोले 'जय श्री राम' दिया सन्देश


pm-narendra-modi-says-jai-shree-ram-massage-to-natioan-on-dussehra

आज दिल्ली के माधवदास पार्क में राम लीला कमेटी द्वारा दशहरा प्रोग्राम का आयोजन किया गया था जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शामिल हुए. उनके साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उप-राष्ट्रपति वेंकैया नायडू भी प्रोग्राम में शामिल हुए. मोदी के सामने ही रावण, मेघनाथ और कुम्भकर्ण को जलाकर ख़ाक कर दिया गया. रावण के जलते ही जय श्री राम और भारत माता की जय के नारे गूंजे. 

मोदी ने भी इस कार्यक्रम को संबोधित किया और जय श्री राम के नारे से भाषण की शुरुआत की. उन्होंने सभी लोगों को विजयादशमी के पावन पर्व की शुभकामनाएं दी. उन्होंने कहा कि हमारे देश में उत्सव एक प्रकार से सामाजिक शिक्षा का माध्यम हैं. हमारा हर उत्सव हमें समाज के प्रति संवेदनशील बनता है, जिम्मेदार बनता है, एकता सिखाता है और बुराइयों को मिटाने की शिक्षा देता रहता है.

उन्होंने कहा कि हमारे उत्सव खेत खलिहान से भी जुड़े हुए हैं और नदी और पर्वतों से भी जुड़े हुए हैं, हमारे उत्सव इतिहास से भी जुड़े हुए हैं, हमारे उत्सव सांकृतिक परम्पराओं से भी जुड़े हुए हैं.

मोदी ने कहा कि हजारों साल हो गए लेकिन प्रभु राम और प्रभु कृष्ण की गाथाएँ आज भी समाज को चेतना और प्रेरणा देती रहती हैं. आज नवरात्रि के बाद विजयादशमी के पर्व पर रावण दहन की परंपरा है. ये रावण दहन उस परंपरा का हिस्सा है जिमें एक नागरिक के नाते सामाजिक जीवन में ये जो रावण की प्रवित्ति होती है, उसको विनाश करने के लिए भी समाज को निरंतर प्रयास करने होते हैं. ये उत्सव किसी मनोरंजन के लिए नहीं बल्कि मकसद के लिए मानना चाहिए. ऐसे उत्सवों से कुछ कर गुजरने का संकल्प बनना चाहिए.

उन्होंने कहा कि प्रभु राम ने अयोध्या से जो पहना हुआ वस्त्र पहना था उसके बाद भी पूरे रास्ते चलते चलते संगठन शक्ति का इतना बड़ा कौशल्य बता देते हैं कि श्रीलंका विजय में समाज के हर तबके का व्यक्ति उनके साथ था. उनके साथ नर भी थे और वानर भी थे. उनके अन्दर लोक संगठन की बहुत बड़ी शक्ति रही होगी तभी प्रभु श्री राम ने इतने बड़े काम को अंजाम दिया होगा. वे विजय प्राप्त करने के बाद भी खुद को समाज के प्रति आहूत करने में लगे रहे.

मोदी ने कहा कि आज विजयादशमी के पर्व पर हम भी संकल्प करें कि जब 2022 में भारत आजादी का 75वां वर्ष मनाएगा तो हम एक नागरिक के नाते देश में कुछ ना कुछ सकारात्मक योगदान दें, हमारे महापुरुषों ने जिस सपनों के साथ हमें आजादी दिलाई थी हम प्रभु राम के रास्ते पर चलकर उस सपनों को पूरा करें.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: