Sep 11, 2017

मोदी बोले, आज मेरी बात बहुत लोगों को चोट पहुंचाएगी, हमें नही है वंदे मातरम बोलने का हक, क्योंकि


pm-narendra-modi-said-we-dont-have-right-to-speak-vande-mataram

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज विज्ञान भवन में विवेकानंद के शिकागो में दिए गए ऐतिहासिक भाषण की याद में युवाओं को संबोधित किया. उन्होंने कार्यक्रम में वन्दे मातरम पर देश के लोगों को जमकर खरी खोटी सुनाई. मोदी ने कहा कि आज मैं यहाँ पर आ रहा था तो जोर जोर से वन्दे मातरम के नारे लग रहे थे. वन्दे मातरम सुनकर रौंगटे खड़े हो जाते हैं. यह सुनकर भारत के प्रति भक्ति का भाव अपने आप जग जाता है.

मोदी ने कहा कि मैं आज पूरे हिंदुस्तान से पूछ रहा हूँ, क्या हमें वंदे मातरम कहने का हक है. मैं जानता हूँ कि मेरी यह बात आज बहुत लोगों को चोट पहुंचाएगी. 50 बार 50 बार सोच लीजिये, क्या हमें वन्दे मातरम कहने का हक है. हमीं वो लोग हैं जो भारत पर पान खाकर पिचकारी मार रहे हैं और वन्दे मातरम भी बोल रहे हैं. हम वो लोग हैं जो भारत माँ का कूड़ा-कचरा फेंक रहे हैं, फिर वन्दे मातरम बोलते हैं.

मोदी ने कहा कि वन्दे मातरम बोलने का हक इस देश में सबसे पहले किसी को है तो देश भर में सफाई का काम करने वाले भारत माँ के सच्चे संतानों को है. हमारी भारत माता सुजलाम सुफलाम भारत माता है, हम सफाई करें या ना करें लेकिन हमें इसे गन्दा करने का भी हक नहीं है.

मोदी ने कहा कि हर नौजवान चाहता है कि अपने बूढ़े माँ-बाप को अंतिम समय में गंगा स्नान कराए ताकि पाप धुल जाएं लेकिन क्या हम गंगा को गन्दा करने से खुद को रोक पाते हैं, कभी कभी हमें लगता है कि हम इसलिए स्वस्थ इसलिए हैं क्योंकि हमारे यहाँ उत्तम से उत्तम अस्पताल हैं, बहुत ही उत्तम स्तर के डॉक्टर हैं, जी नहीं, हम स्वस्थ इसलिए हैं क्योंकि कोई मेरा सफाईकर्मी सफाई करता है. अगर डॉक्टर से भी ज्यादा आदर हम सफाई कर्मियों को देंगे तभी हम वन्दे मातरम कहने के काबिल हैं.

मोदी ने कहा कि एक बार मैंने बोला था कि देवालय से पहले शौचालय, उस समय लोगों ने मेरे बाल नोच लिए थे, लेकिन आज मुझे ख़ुशी है कि मेरे देश में ऐसी बेटियां हैं जो शौचालय नहीं होता तो शादी नहीं करतीं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: