Sep 21, 2017

मूर्ति विसर्जन मामले पर हाई कोर्ट से बोलीं ममता बनर्जी, मेरा गला काट दो, काम में दखल मत दो


mamata-banerjee-says-hc-slit-my-throat-but-not-interfare-my-work

कलकत्ता हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है कि जब तुम सामाजिक समरसता की बात करती हो तो मुहर्रम पर माँ दुर्गा की मूर्ति के विसर्जन पर बैन कैसे लगा सकती हो, आप हिन्दू मुस्लिम के बीच में लाइन खींच रही हो, आप दुर्गा माँ की प्रतिमा पर प्रतिबन्ध हटाइए.

आज ममता बनर्जी कलकत्ता हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं। उन्होंने कहा कि मुझे मेरे काम से कोई नहीं रोक सकता, कोई मेरा गला काट सकता है लेकिन मेरे काम में कोई भी दखल नहीं दे सकता, मैं वही करूँगी जो राज्य में शांति बनाए रखने के लिए जरूरी होगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने ऐलान किया था कि दशहरा के दिन सिर्फ शाम 6 बजे तक माँ दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा क्योंकि अगले दिन मुहर्रम का त्यौहार है इसलिए मूर्ति विसर्जन मुहर्रम के अगले दिन शुरू किया जाएगा, ममता बनर्जी के इस आदेश का हिन्दू संगठनों ने विरोध किया और हाई कोर्ट में अर्जी दी, आज कलकत्ता हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को आदेश दिया है कि मुहर्रम के दिन भी 12 बजे तक प्रतिमा का विसर्जन किया जाएगा. पुलिस को आदेश दिया गया है कि वह दुर्गा की प्रतिमा और ताजिया के लिए अलग अलग रास्ता तय करे ताकि दोनों का आपस में क्लैश ना हो.

कोर्ट ने ममता सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि आपको हिन्दू और मुस्लिम के बीच अंतर करना नहीं बल्कि उन्हें आपस में मिलकर रहना सिखाना चाहिए, उनके बीच में लाइन मत खींचिए, एक तरफ तो तुम कहते हो कि यहाँ पर सामाजिक सद्भाव है और दूसरी तरफ उनके बीच में लाइन भी खींच रहे हो.

आज ममता बनर्जी हाई कोर्ट पर ही बरस पड़ीं. उन्होंने कहा कि मैं किसी की बात नहीं मानूंगी, मेरे काम में कोई दखल नहीं दे सकता, राईट विंग के लोगों को चेतावनी देती हूँ कि आग से खेलने की कोशिश मत करो.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: