Sep 15, 2017

हाई कोर्ट ने फिर चलाया ममता सरकार पर डंडा तो बढ़ा दिया मूर्ति विसर्जन का समय


mamata-banerjee-extend-murti-visarjan-time-after-high-court-interfare

ममता बनर्जी सरकार पर एक बार फिर से कलकत्ता हाई कोर्ट का डंडा चला है, इसी डंडे की वजह से ममता बनर्जी को मजबूर होकर दशहरा के दिन मूर्ति विसर्जन का समय बदलना पड़ा, ममता सरकार के नए आदेश के अनुसार अब दशमी के दिन रात 10 बजे तक मूर्ति विसर्जन किया जा सकेगा, हालाँकि उसके दूसरे दिन मुहर्रम होने के कारण हिन्दू लोग मूर्ति विसर्जन नहीं कर सकेंगे.

आज मामले की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने ममता सरकार से पूछा, जब मुंबई में गणेश विसर्जन और मुहर्रम एक साथ हो सकता है तो कलकत्ता में एक साथ क्यों नहीं हो सकता, हाई कोर्ट के इस सवाल का ममता बनर्जी सरकार के पास कोई जवाब नहीं था लिहाजा मूर्ति विसर्जन का समय बढ़ा दिया गया.

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ममता बनर्जी ने एक आदेश दिया था जिसमें कहा गया था कि दशमी के दिन 31 सितम्बर को हिन्दू समाज के लोग सिर्फ शाम 6 बजे तक मूर्ति विसर्जन करें, उसके दूसरे दिन यानी 1 अक्टूबर को मुहर्रम है इसलिए अगर हिन्दू मूर्ति विसर्जन करेंगे तो मुस्लिम बुरा मान जाएंगे इसलिए हिन्दुओं से कहा गया कि आप लोग मुहर्रम के बीतने का इन्तजार करो और मुहर्रम के बीतने के बाद 2 तारीख को मूर्ति विसर्जन करो.

बंगाल सरकार के इस आदेश के खिलाफ यूथ बार एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया कार्यालय के पदाधिकारी सनप्रित सिंह अजमानी, कुलदीप राय और रिकी राय की और से हाई कोर्ट में याचिका डाली गयी जिसकी आज हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. हाई कोर्ट ने बंगाल सरकार को जमकर फटकार लगाई जिसके बाद ममता बनर्जी की सरकार ने कहा कि हम रात 10 बजे तक मुहर्रम का समय बढ़ाते हैं, बंगाल सरकार के इस आदेश से भी हाई कोर्ट सहमत नहीं हुई, अब इस मामले की अगली सुनवाई 18 सितम्बर को होगी.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: