Sep 12, 2017

लालू यादव परिवार की बेमानी संपत्ति का मामला अंतिम स्टेज तक पहुंचा, अब आएगा फाइनल रिजल्ट


lalu-yadav-benami-sampatti-matter-refer-to-adjudicating-authority

लालू यादव और उनके परिवार की बेनामी सम्पत्ति का मामला अब अंतिम स्टेज पर पहुँच गया है, आज आयकर विभाग ने जांच पूरी करके इसे निर्णयकर्ता अधिकारी के पास भेज दिया. निर्णयकर्ता अधिकारी इस मामले में निर्णय करने के बाद बेनामी संपत्ति को जब्त करने का आर्डर पास करेगा. आयकर विभाग द्वारा जमा किये गए सभी दस्तावेजों की जाँच करने के बाद निर्णयकर्ता अधिकारी फाइनल आदेश पारित करेगा जिसके बाद लालू यादव और उनके परिवार की पूरी बेनामी संपत्ति को जब्त किया जाएगा. 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आयकर विभाग नी जांच पूरी कर ली है, IT ने अपनी जांच में लालू यादव और उनके परिवार की 14 बेनामी संपत्तियों को अटैच किया किया है जिसमें 2 दिल्ली में हैं जबकि 12 पटना में हैं. लालू यादव परिवार के खिलाफ बेनामी सपत्ति एक्ट कानून के तहत कार्यवाही हो रही है.

आयकर विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में दो बेनामी संपत्तियों को अटैच किया गया है जिसमें - बिजवासन में एक फार्म हाउस और मिशेल पैकर्स एंड प्रिंटर्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी है जिसके मालिक मीसा भारती और उनके पति शैलेश कुमार हैं. इस फार्म हाउस की मार्केट वैल्यू 40 करोड़ है जबकि दस्तावेजों में इसकी कीमत सिर्फ 1.4 करोड़ रुपये है.

दिल्ली में दूसरी प्रॉपर्टी - न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में AB एक्सपोर्ट्स नाम से एक बँगला है. यह बँगला लालू यादव के पुत्र तेजस्वी यादव, पुत्री चंदा और रागिनी यादव के नाम है. इस बंगले की भी मार्केट वैल्यू 40 करोड़ रुपये है लेकिन दस्तावेजों में इसकी कीमत सिर्फ 5 करोड़ रुपये है.

बचे हुए 12 प्लॉट्स जलापुर और पटना में हैं जैसे - डिलाइट मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड और ऐके इन्फो सिस्टम्स भी बेनामी संपत्तियां हैं लेकिन बेनामीदर तेजस्वी यादव और राबड़ी देवी हैं. इन सपत्तियों की मार्केट वैल्यू 85 करोड़ रुपये है लेकिन बुक वैल्यू सिर्फ 3.5 करोड़ रुपये है.

आयकर विभाग ने पिछले महीनें से दिल्ली, पटना सहित 22 स्थानों पर रेड मारी है, लालू यादव परिवार की कम से कम 1000 करोड़ रुपये की कीमत की बेनामी संपत्ति बतायी जा रही है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: