Sep 1, 2017

अय्याश बाबा की जिन्दगी में कई रोल निभाती थी हनीप्रीत, बेटी का भी, बहन का भी और ‘उसका’ भी: पढ़ें


honeypreet-insan-was-baba-ram-rahim-daughter-sister-and-lover

हनीप्रीत और बाबा राम रहीम के बारे में एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं. जब से हनीप्रीत बाबा राम रहीम की जिन्दगी में आयी थी उनकी जिन्दगी बदल गयी थी. बाबा राम रहीम सात रंग के सपनें में खो गए थे, हनीप्रीत ने ही बाबा राम रहीम को सिंगर बनाया, डांसर बनाया, फिल्मों में हीरो बनाया और कॉमेडी कलाकार भी बनाया.

अब हनीप्रीत के बारे के कई खुलासे हो गए हैं. बाबा राम रहीम और हनीप्रीत के बीच अवैध संबंधों का खुलासा हुआ है. उन्होंने हनीप्रीत को बेटी बनाकर गोद लिया ताकि दोनों के रिश्तों पर किसी का शक ना हो, जब बाबा राम रहीम हनीप्रीत को गोद लेने गए थे तो बाकायदा दूल्हा बनकर गए थे. वे दूल्हे की तरह ही बरात लेकर और घोड़े पर बैठकर हनीप्रीत की ससुराल गए थे. वहां पर शादी करने के बजाय दुल्हन की तरह ही उन्होंने हनीप्रीत को गोद लिया और अपने साथ लेकर डेरा आश्रम आ गए.

आश्रम में हनीप्रीत ने बाबा राम रहीम की जिन्दगी बदल दी, बाबा राम रहीम की मजबूरी यह थी कि वह हनीप्रीत से शादी नहीं कर सकते थे क्योंकि उनकी पहले से ही शादी हो चुकी थी, इसके अलावा वे आश्रम की सभी साध्वियों को बेटी कहते थे और साध्वियां उन्हें पिताजी कहती थीं इसलिए हनीप्रीत भी बाबा राम रहीम को पिताजी कहने लगी और बाबा राम रहीम उसे अपनी लाडली बोलने लगे. पहले हनीप्रीत का नाम प्रियंका तनेजा था लेकिन पंजाबियों और सिखों में एक रिवाज है कि दुल्हन को घर लाने के बाद उसका नाम बदल दिया जाता है. इसी तरह से बाबा राम रहीम ने भी प्रियंका तनेजा का नाम बदलकर हनीप्रीत रख दिया. उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वे हनीप्रीत को बहुत प्यार करते हैं, वह बाबा की हनी भी है और प्रीत भी है इसलिए उसका नाम हनीप्रीत रख दिया.

हनीप्रीत बाबा राम रहीम की जीवन में कई रोल निभाती थी, वह रक्षाबंधन पर बाबा की बहन बन जाती थी, वैलेंटाइन डे पर बाबा राम रहीम की प्रेमिका बन जाती थी और सामान्य दिनों में वह बाबा की बेटी बनी रहती थी. इन दोनों के घिनौने रिश्ते की अब पूरी दुनिया में चर्चा हो रही है. जब से हनीप्रीत के असली चेहरे की पोल खुली ही लोग उन्हें ट्विटर पर अन-फॉलो कर रहे हैं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: