Sep 29, 2017

हरियाणा के सबसे अच्छे लोगों के शहर फरीदाबाद में दशहरा मनाएंगे CM मनोहर लाल खट्टर


cm-manohar-lal-khattar-will-celebrate-faridabad-dussehra-ground

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा के सबसे अच्छे लोगों के शहर फरीदाबाद में विजय दशमी का त्यौहार मनाने का निर्णय किया है, इससे पहले उन्हें दशहरा मैदान में आयोजित समारोह का चीफ गेस्ट बनाया गया, उन्हें निमंत्रण दिया है जिसे उन्होंने अस्वीकार नहीं किया और शहर के लोगों को खुश कर दिया. 

आपको बता दें कि फरीदाबाद सबसे अच्छे लोगों का शहर इसलिए है क्योंकि इस शहर में जाट आन्दोलन के समय हिंसा की कोई घटना सामने नहीं आयी, इसके अलावा हाल ही में राम रहीम प्रकरण में भी शहर विल्कुल शांत रहा, यहाँ पर ऐसी नौबत कभी नहीं आयी जब यहाँ पर इन्टरनेट और टीवी बन करनी पड़े, बिजली गुल करनी पड़े, हाल ही में राम रहीम प्रकरण में राज्य के सभी शहरों में इन्टरनेट सेवायें बंद रहीं लेकिन फरीदाबाद में सब कुछ चलता रहा, यही हालत जाट आन्दोलन के समय थी जब फरीदाबाद एकदम शांत था, इसीलिए फरीदाबाद को सबसे अच्छे लोगों का शहर कहा जाता है.

जैसे ही मनोहर लाल के कार्य्रकम में शामिल होने की अधिकारिक घोषणा की गयी दशहरा मैदान को पुलिस ने कब्जे में ले लिया, हर तरफ सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी है, कई जगह बैरिकेट लगाए गए हैं. मुख्यमंत्री के लिए मैदान के सामने स्टेज भी बनाया गया है जहाँ पर वे लोगों को संबोधित भी करेंगे.

एनआईटी फरीदाबाद की डीसीपी आस्था मोदी ने पत्रकारों बातचीत करते हुए बताया की पुलिस द्वारा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये जा रहे है, इस मैदान में जहाँ तीन तरफ से पब्लिक आएगी  वहीँ मैदान के एक तरफ वीआईपी द्वार बनाया जा रहा है जहाँ से सीएम और वीवीआईपी लोग दाखिल होंगे। 

उन्होंने बताया की इसके अलावा मैदान के आस पास की मुख्य सडक़ो पर बेरिकेड्स भी लगाए जा रहे है और उनकी कोशिश रहेगी की आम लोगो को इस त्यौहार को लेकर कोई परेशानी ना आये. उन्होंने जनता से पुलिस का सहयोग करने की अपील की.

गौरतलब है की इस मैदान में करीब पचास हजार लोग हर साल दशहरा देखने के लिए विभिन्न क्षेत्रों से आते है जिसमे एनआईटी और बडख़ल विधान सभा क्षेत्र के लोग शामिल है।  लेकिन इस बार अचानक सीएम के आने की घोषणा से पुलिस के भी हाथ पाँव फूले हुए है और बहुत ही कम समय में पुलिस को सुरक्षा के इंतजाम करने पड़ रहे है. इस बार सीएम के आने के कारण लोग अपने वाहन मैदान के पास नहीं ले जा पाएंगे और उन्हें इस मैदान तक पहुंचने के लिए पैदल ही आना पडेगा।  

आपको बता दें कि इतिहास में पहली बार ऐसा हो रहा है कि जब दशहरा का त्यौहार जिला प्रशासन मना रहा है, इससे पहले दशहरा रामलीला कमेटी मनाती थी लेकिन राजनीतिक विवाद की वजह से जिला प्रशासन ने खुद ही दशहरा मनाने और रावण जलाने का निर्णय किया है, पिछले साल विवाद की वजह से इस मैदान में रावण जल ही नहीं पाया था लेकिन इस बार शायद ऐसा नहीं होगा क्योंकि हरियाणा के मुख्यमंत्री खुद ही समारोह के मुख्य अतिथि होंगे.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: