Sep 16, 2017

मोदी सरकार ने असम राइफल्स को दिए निर्देश, आने ना पाएं रोहिंग्या, लौटा दो या टपका दो


assam-rifles-on-red-alert-in-myanmar-border-for-rohingya-muslims

भारत में लाखों रोहिंग्या मुसलमान घुसपैठ कर चुके हैं और लाखों आने को तैयार हैं. भारत में शरणार्थी शिविर रोहिंग्या मुसलमानों से भर गए हैं, अब भारत में इनके समर्थक इनके लिए घर और जमीन की भी मांग कर रहे हैं, भारत में पहले से ही जल, जंगल और जमीन की कमीं है, भारत पहले से ही गरीबी और बेरोजगारी से परेशान है ऐसे में रोहिंग्या मुसलमान आज भारत से घर और जमीन मांग रहे हैं तो कल मोदी सरकार से रोजगार भी मांगेंगे.

असम से बड़ी संख्या में रोहिंग्या मुसलमान घुसपैठ की फिराक में हैं इसलिए मोदी सरकार से असम राइफल्स यूनिट के जवानों को आदेश दे दिया है कि कोई भी घुसपैठिया जिन्दा बचने ना पाए, सभी लोगों के साथ कड़ाई से निपटा जाए क्योंकि यह भारत की इंटरनल सिक्यूरिटी से जुड़ा मामला है.

मोदी सरकार के आदेश के बाद असम राइफल्स की तरफ से एक बयान जारी किया गया जिसमें कहा गया है कि म्यांमार से रोहिंग्या नागरिकों को भारत में रोकने के लिए असम राइफल्स के जवान हाई अलर्ट पर हैं, खासकर पूर्वोत्तर के पहाड़ी जिलों पर जवानों ने पहरा बढ़ा दिया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि नागालैंड की 215 किलोमीटर, मणिपुर की 398 किलोमीटर, अरुणाचल प्रदेश की 520 किलोमीटर और मिजोरम की 510 किमोमीटर सीमा म्यांमार से लगी हुई है. मणिपुर में भाजपा सरकार ने घुसपैठ की आशंका से रेड अलर्ट जारी किया है. पुलिस ने भी सर्च ऑपरेशन बढ़ा दिया है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: