Aug 12, 2017

अपनी असली औकात दिखा रहे ये पत्रकार, TRP बढ़ाने के लिए बच्चों की मौत को बता रहे नर-संहार, डूब मरो


zee-news-rubika-liyaquat-told-children-death-nar-sanhar-gorakhpur

अपनी TRP बढाने के लिए टीवी न्यूज़ चैनल कुछ भी करने को तैयार हैं, ये नए नए शब्द गढ़ने की कोशिश करते रहते हैं, कभी कभी तो ये लोग इतना गिर जाते हैं कि इनकी नीयत में खोट दिखने लगता था. जी न्यूज़ की पत्रकार रुबिका लियाकत ने आज ताल ठोंक के कार्यक्रम में गोरखपुर की घटना को नर-संहार का नाम दे दिया. उन्होंने कहा कि गोरखपुर में योगी सरकार ने बच्चों का नरसंहार किया है क्योंकि ये घटना सरकार की लापरवाही से हुई है. उनकी बीजेपी नेताओं के साथ बहस भी हुई.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गोरखपुर के BRD अस्पताल में हर साल अगस्त महीनें में 500-600 बच्चों की मौत हो जाती है, ऐसा इसलिए क्योंकि इस अस्पताल में बहुत दूर दूर से बच्चे इलाज के लिए आते हैं, कई लोग तो नेपाल से आते हैं, अधिकतर बिहार और यूपी के ही होते हैं. इस अस्पताल में जो भी बच्चे आते हैं उनके बचने की उम्मीद बहुत कम होती है क्योंकि ये लोग हर जगह से थक हारकर और निराश होकर आते हैं इसीलिए यहाँ पर बच्चों की मौत ज्यादा होती है.

आपने देखा होगा कि इससे पहले पिछले अगस्त महीनें में भी 600 बच्चों की मौत हुई थी लेकिन जी न्यूज़ ने इसे नर-संहार नहीं बताया, उसके पहले 2014, 2015 में भी 600 से अधिक मौतें हुईं लेकिन जी न्यूज़ ने इसे नरसंहार नहीं बताया लेकिन इस वर्ष बीजेपी की सरकार है और 5 दिनों में 60 बच्चों की मौत हुई है तो इसे जी न्यूज़ ने नरसंहार का नाम दिया है और यह सब केवल अपनी TRP बढाने के लिए किया है ताकि उनकी ख़बरों पर अधिक लोगों का ध्यान जाए तो लोग योगी सरकार की आलोचना करें.

क्या होता है नरसंहार

रुबिका लियाकत को शायद पता नहीं है कि नरसंहार क्या होता है. नरसंहार में जिन्दा लोगों का सर धड़ से अलग कर दिया जाता है और जो लोग नरसंहार करते हैं वे बड़े बेरहम होते हैं. जी न्यूज़ वाले और रुबिका लियाकत शायद योगी को बेरहम समझते हैं और उनपर नरसंहार का आरोप लगा रहे हैं. इन्हें डूब मरना चाहिए क्योंकि ये पत्रकारी के लायक नहीं हैं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: