Aug 12, 2017

एक महीनें से BJP विधायक का टूटा हुआ है हाथ, रुबिका लियाकत उसे बोलीं 'तुम्हें शर्म आनी चाहिए'


rubika-liyaquat-shameless-debate-with-bjp-mla-radha-mohan-singh

आज जी न्यूज़ की पत्रकार रुबिका लियाकत मर्यादा की सभी सीमायें लांघ गयीं. उन्हें उस बीजेपी विधायक पर भी दया नहीं आयी जिसका एक महीनें से हाथ टूटा हुआ है और वह अपाहिज बनकर अस्पताल में इलाज करा रहा है. हम बात कर रहे हैं बीजेपी विधायक राधा मोहन सिंह की. वह गोरखपुर से विधायक हैं लेकिन इस वक्त उनकी हड्डी टूटी हुई है और वे लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज करा रहे हैं. वह इस वक्त चलने फिरने में भी असमर्थ हैं लेकिन रुबिका लियाकत चाहती थीं कि वे उड़कर गोरखपुर पहुँच जाँय और एक्शन शुरू कर दें.

BRD मेडिकल कॉलेज में बच्चों का मरना दुखद है और हो कुछ अस्पताल प्रशासन की भी लापरवाही सामने आ रही है लेकिन कोई अस्पताल अपने यहाँ पर मरीजों का नरसंहार नहीं कर सकता और ना ही कोई सरकार कर सकती है जैसा कि जी मीडिया की पत्रकार रुबिका लियाकत कह रही हैं, ये तो इस घटना को सीधा नरसंहार ही बता रही हैं.

रुबिका लियाकत तो इतना क्रोधित हो गयीं कि उस विधायक को भी अनाप शानाप बोलने लगीं जिसका हाथ टूटा हुआ है और वह एक महीनें से लखनऊ के अस्पताल में भर्ती है. जब राधा मोहन सिंह बोले कि रात में मैं दवा खाकर सो गया था तो रुबिका लियाकत बेशर्मी से बोलीं, इतने बच्चे मार डाले गए और आपको नींद कैसे आ सकती है. मैडम जी, जब लोग एंटीबायोटिक दवा खाकर लेटते हैं तो अच्छे अच्छे लोगों को नींद आ जाती है, आप की भी हड्डी टूट जाए और उसे सही करने के लिए एंटी-बायोटिक खिला दी जाए तो आपको भी नींद आ जाएगी. लगता है रुबिका लियाकत ने कभी एंटी-बायोटिक नहीं खाई है इसलिए इन्हें नहीं पता कि एंटी-बायोटिक खाने से नींद आ जाती है. इसके अलावा कभी कभी डॉक्टर हड्डी जोड़ने के लिए नींद की दवाइयाँ भी देते हैं उससे भी नींद आती है लेकिन रुबिका लियाकत ने उन्हें कहा कि 'आपको शर्म आनी चाहिए, आप रात में सो रहे थे'. ऐसा लगता है कि रुबिका लियाकत कल रात जाग रही थीं.

रुबिका लियाकत ने आज जो कुछ किया वह केवल TRP के लिए किया और मर्यादा की सभी सीमाएं लांघकर किया. ऐसा लग रहा है कि वो विपक्ष का एजेंडा लेकर आयी थीं. पिछले साल भी अगस्त महीनें में 600 बच्चे मरे थे लेकिन रुबिका लियाकत ने इसे नरसंहार का नाम नहीं दिया क्योंकि उस समय उन्होंने अपनी ऑंखें बंद कर रखीं थीं. यह भी हो सकता है कि अखिलेश सरकार ने उनकी खातिरदारी की हो.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: