Aug 14, 2017

कई वर्षों बाद किसी राष्ट्रपति ने ID के भाषण में कहा ‘वन्दे मातरम’ नहीं की कट्टरपंथियों की परवाह


ramnath-kovind-end-independence-day-speech-from-vande-mataram

भारतीय जनता पार्टी से राष्ट्रपति बनने का देश को यह फायदा मिला है कि अब राष्ट्रपति खुलेआम सीना ठोंककर वन्दे मातरम बोल सकते हैं. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज ऐसे ही किया. उन्होंने कट्टरपंथियों की परवाह ना करते हुए आज स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर दिए गए भाषण को वन्दे मातरम बोलकर समाप्त किया.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि दर्जनों वर्षों बाद किसी राष्ट्रपति ने अपने भाषण में वन्दे मातरम बोला है वरना कांग्रेस के चुने राष्ट्रपति तो कट्टरपंथियों से इतना डरते थे कि वोट कटने के डर से वन्दे मातरम बोलते ही नहीं थे. यही नहीं ये लोग भारत माता की जय भी नहीं बोलते थे, ये हमेशा इस बात का ध्यान रखते थे कि कहीं कट्टरपंथी उनसे या उनकी पार्टी से नाराज ना हो जाएं और वोट ना कट जाए.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कट्टरपंथियों से डरकर कांग्रेस का भी कोई नेता भारत माता की जय, या वन्दे मातरम नहीं बोलते, राहुल गाँधी, सोनिया गाँधी तो कभी ये सब बोलते ही नहीं, कट्टरपंथी भी केवल जय हिन्द बोलते हैं और राहुल-सोनिया भी केवल जय हिन्द बोलकर काम चला लेते हैं. इनके चुने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल और प्रणब मुख़र्जी भी जय हिन्द से काम चला लेते थे लेकिन अब ऐसा नहीं है. अब रामनाथ कोविंद को कट्टरपंथियों की चिंता नहीं है इसलिए शान से वन्दे मातरम बोल सकते हैं और उन्होंने बोलकर दिखा भी दिया है.

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, सभी केंद्रीय मंत्री, सभी पार्टियों के अध्यक्ष, देश के सभी नेता भारत माता की जय और वन्दे मातरम बोलें तो कट्टरपंथियों की भी शायद आँखें खुल जाँय लेकिन विपक्षी नेता कट्टरपंथियों के डर से वन्दे मातरम नहीं बोलते इसलिए यह नारा विवादित बनता जा रहा है और विपक्षी पार्टियों के नेता इस नारे से परहेज करते जा रहे हैं, सिर्फ भारतीय जनता पार्टी के नेता वन्दे मातरम बोलते हैं. वन्दे मातरम हमारे देश का राष्ट्रीय गीत है इसके बावजूद भी कांग्रेस जैसी पार्टियाँ वन्दे मातरम् बोलने से डरती हैं वो भी इसलिए कि कहीं कट्टरपंथी इनसे नाराज ना हो जाँय और इनके वोट ना कट जाँय.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: