Aug 18, 2017

नीतीश कुमार ने मान ली लालू और तेजस्वी की ये बात: पढ़ें क्या


nitish-kumar-accept-lalu-tejashwi-demand-cbi-bhagalpur-srijan-scam

आज नीतीश कुमार ने अपने विरोधी लालू यादव और उनके बेटे तेजस्वी यादव की बात मानते हुए भागलपुर सृजन घोटाले में सीबीआई जांच के आदेश दे दिए हैं. आज कैबिनेट की मीटिंग के बाद नीतीश कुमार ने ये फैसला लिया और लालू-तेजस्वी की मांग के बाद इस घोटाले की CBI जांच की शिफारिश कर दी. नीतीश कुमार ने राज्य के चीफ सेक्रेटरी को इस मामले को सीबीआई को देने के आदेश दे दिए हैं. इस घोटाले में गैरकानूनी तरीके से सरकारी खजाने से फंड निकालने के आरोप हैं. फिलहाल इस मामले की जांच SIT कर रही है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लालू यादव और तेजस्वी यादव इस घोटाले का आरोप नीतीश कुमार पर लगा रहे हैं. दोनों लोग नीतीश कुमार पर 1000 करोड़ रुपये गबन करने का आरोप लगाये थे और CBI जांच की मांग कर रहे हैं. तेजस्वी यादव ने इस मामले पर बवाल खड़ा कर दिया है.

आज लालू यादव ने नीतीश कुमार पर लोकतंत्र की हत्या का आरोप लगाते हुए कहा कि तेजस्वी यादव की भागलपुर में जनसभा को रद्द करना साबित करता है कि नीतीश कुमार डरे हुए हैं और घोटाले में शामिल हैं. लालू यादव ने नीतीश कुमार की जीरो करप्शन नीति का भी मजाक उड़ाया.

आज तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि मैं भागलपुर में नीतीश कुमार की पोल-पट्टी खोलने वाला था लेकिन स्थानीय प्रशासन ने मुझे रोकने के लिए जिले में धारा 144 लगा दी और मुझे जाने से रोक दिया.

क्या है सृजन घोटाला

रिपोर्ट के अनुसार करीब 1000 करोड़ रुपये भागलपुर के डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन के खाते में रखे गए थे लेकिन उन्हें गैरकानूनी तरीके से एक NGO सृजन और उसके कर्मचारियों के बैन खातों में ट्रान्सफर कर दिए गए. यह NGO मनोरमा देवी द्वारा शुरू किया गया था लेकिन बाद में उनके बेटे ने इसे चलाया और उनकी मौत के बाद उनकी पत्नी इसकी देखभाल कर रही हैं. अब तक इस मामले में तीन FIR दर्ज हुई है. फाइनेंस विभाग की ऑडिट टीम भागलपुर पहुंचकर इस मामले को ऑडिट कर रही है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: