Aug 17, 2017

कवि कमल आग्नेय ने हामिद अंसारी को दिया जवाब ‘जैसे कुत्तों को देशी घी हजम नहीं होता वैसे ही..’


kavi-kamal-aagney-strong-reply-to-hamid-ansari-on-muslims

पूर्व उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने विदा होने से पहले एक धर्म का पक्ष लेकर मुसीबत मोल ले ली है क्योंकि पहले सोशल मीडिया पर ही उन्हें फटकार लगाई जा रही थी लेकिन अब कवि भी कविताओं के जरिये उन्हें करारा जवाब दे रहे हैं. हिंदी भाषा के मशहूर कवि कमल आग्नेय ने भी कविता के माध्यम से हामिद अंसारी को करारा जवाब दिया है और इशारों इशारों में कहा है कि जैसे कुत्तों को देशी घी हजम नहीं होता वैसे ही तुम लोगों ने भारत में शांतिपूर्वक रहना हजम नहीं हो रहा है क्योंकि भारत ही ऐसा देश है जहाँ पर मुस्लिम धर्म के लोग सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं वरना आज इरान, इराक, सीरिया, यमन और पाकिस्तान में क्या हो रहा है ये किसी से छुपा नहीं है.

पढ़ें कमल आग्नेय की धमाकेदार कविता

फिर से जेहादी झूले में झूल गए हो हामिद क्या
संवैधानिक पद की गरिमा भूल गए हो हामिद क्या
संविधान का धर्म राष्ट है सिर्फ एक इस्लाम नहीं
राज्यसभा की सभापति तुम दिल्ली के ईमाम नहीं
पहले से ही झुके शीश को शर्म सिखाने निकले हो
वन्दे मातरम के दुश्मन अब धर्म सिखाने निकले हो
देशद्रोह या देशप्रेम का एक रास्ता चुन लेना
आग्नेय की घोर गर्जना कान खोलकर सुन लेना
खूब मोम हमने पिघलाया चर्चो के उजियारो पर
हमने चादर खूब चढ़ाई सैय्यद के दरबारों पर
हिन्दू वो है जिसने बाँधा सकल विश्व को बाहों में
मुस्लिम से ज्यादा हिन्दू हैं हाजी की दरगाहो में
जो घर की पहली रोटी गौ माँ को भोग लगाता हो
जो भोजन करने से पहले पंचयज्ञ करवाता हो
जिसने बंदर को भी अपने चने खिलाकर पाला हो
जिसने छोटी सी चींटी तक को भी आटा डाला हो
जिसने पानी नहीं पिया चिड़िया के खाने से पहले
डूब मरो उस हिन्दू पर आरोप लगाने से पहले
भारत तेरे दंशों को अब और नहीं सह सकता है
आक्रोशित हो आग्नेय बस इतना ही कह सकता है
नालों ने गाली दी है माँ गंगा सी पावित्री को
और वैश्या पढ़ा रही है पाठ सती सावित्री को
भारत को मुगलिस्तान बनाने की तैयारी बंद करो
उपराष्ट्रपति हो एक कौम की ठेकेदारी बंद करो
हामिद तेरा सूरज जाने वाला है अस्ताचल में
मुसलमान खुश रहता है तो भारत माँ के आँचल में
जुटे हुए हो इस्लामी शासन की धाक बनाने में
कूद पड़े हो भारत को जलता ईराक बनाने में
यूँ तो तुमसे देशप्रेम का धरम नहीं हो सकता है
जैसे कुत्तों को देशी घी हजम नहीं हो सकता है
अलगाववाद के बर्तन की अब दाल नहीं गलने देंगे
अब पृथ्वी गौरी को सत्रह चाल नहीं चलने देंगें
तुमको शीश झुकाना होगा भारत की परिपाटी पर
इस्लाम सुरक्षित है तो केवल श्री राम की माटी पर

कमल आग्नेय की कविता का VIDEO

नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

1 comment:


  1. i). Is desi nuskhe ke sevan se Kuch hi dino me ho jayega aap ka ling lamba, mota or tight.
    ii). Nill skhukranu ki problem se pareshan hai to jyada sochiye mat khaye ye desi dawai.
    iii). 30 mint se pahle sambhog me nahi jhad sakte aap rukavat ka achook desi nuskha.
    http://jameelshafakhana.com/

    ReplyDelete