Aug 29, 2017

इनकम टैक्स के अफसरों ने 8 घंटे की माँ-बेटे से पूछताछ, एक एक बेनामी संपत्ति का लिया हिसाब: पढ़ें


it-officers-inquiry-tejaswi-yadav-rabari-devi-benami-sampatti-case

लालू यादव का परिवार मुसीबत में है, उन्होंने कथित रूप से कई घोटाले करके अपने बेटे और पत्नी के नाम पर बेशुमार संपत्ति खरीद ली थी लेकिन अब इनकम टैक्स एक एक संपत्ति का हिसाब ले रहा है. आज दिल्ली से आये इनकम टैक्स के बड़े अधिकारियों ने बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से करीब 8 घंटे तक पूछताछ की. इन लोगों से इनकी एक एक बेनामी संपत्ति का हिसाब माँगा गया. इनसे पूछा गया कि इतना माल कहाँ से आया कि आपने इतनी संपत्ति कैसे खरीद ली.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जांच के बाद इनकी को भी संपत्ति अवैध पाई जाएगी केंद्र सरकार उसे अपने कब्जे में लेकर इन्हें जेल भी भेजेगी क्योंकि मोदी सरकार ने हाल ही में बेनामी संपत्ति के खिलाफ कठोर कानून पास किया था जिसके अनुसार अब बेनामी संपत्तियों पर कब्ज़ा करने के साथ साथ अपराधियों को जेल भी भेजा जाएगा और जुर्माना भी वसूला जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि आज IT की जॉइंट कमिश्नर ऋतु कुमार शर्मा और आशुतोष कुमार ने दोनों लोगों से पहले अलग अलग कमरों में कई घंटे पूछताछ की और बाद में इनके चार्टर अकॉउंटेंट को बुलाकर इनसे आमना सामना करवाया. बताया जा रहा है कि इनके CA काफी राज उगल चुके हैं.

आप को बता दें कि लालू यादव के परिवार पर बेनामी संपत्ति का मामला उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने दर्ज करवाया था. जैसे ही तेजस्वी यादव पर आरोप लगे नीतीश कुमार ने उनसे सफाई मांगी, जब तेजस्वी यादव सफाई नहीं दे पाए तो नीतीश ने लालू से गठबंधन तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बना ली. पहले बिहार के उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव थे लेकिन अब उनपर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले सुशील मोदी उप-मुख्यमंत्री हैं. सुशील मोदी पहले भी नीतीश कुमार के साथ काम कर चुके हैं इसलिए नीतीश कुमार को एक भरोसेमंद साथी मिल चुका है साथ ही केंद्र सरकार का साथ भी है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: