Aug 26, 2017

बाबा को जेल में डालकर उनका पूरा साम्राज्य तहस-नहस करने वाले खट्टर से हुड्डा ने माँगा इस्तीफा


haryana-congress-leader-bhupinder-singh-hooda-ask-khattar-resign

बाबा राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप 2002 में लगा था लेकिन उन्हें सजा 2017 में मिल पाई, उन्हें पहले ही सजा मिल सकती थी लेकिन पूर्व सरकारों ने उन पर कार्यवाही की हिम्मत नहीं दिखाई, ना हाई कोर्ट को उनकी याद आयी, ना सीबीआई को उनकी याद आई लेकिन खट्टर सरकार के आने के बाद फिर से केस की सुनवाई हुई और कल उन्हें सजा भी दे दी गयी. केवल 24 घंटे में बाबा राम रहीम का साम्राज्य तहस नहस हो चुका है, हरियाणा सरकार ने उनके सभी आश्रमों पर कब्ज़ा कर लिया है. 

खट्टर सरकार ने इतने बड़े बाबा को जेल भेजकर केवल 24 घंटे में  उनके विशाल साम्राज्य को तहस नहस कर दिया लेकिन कांग्रेस पार्टी को खट्टर सरकार का यह काम पसंद नहीं आया है. पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने खट्टर सरकार और उनके सभी मंत्रियों के इस्तीफे की मांग की है साथ ही हरियाण में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है.

हुड्डा ने कहा कि बाबा राम रहीम को सजा के बाद जो हिंसा हुई अगर सरकार सचेत होती तो उससे बचा जा सकता था इसलिए सरकार को इस्तीफ़ा दे देना चाहिए. मैंने अपनी जिन्दगी में हरियाणा में कभी भी ऐसे हालात नहीं देखे. बीजेपी सरकार को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफ़ा देना चाहिए और अगर सरकार इस्तीफ़ा नहीं देती तो केंद्र सरकार को यहाँ पर राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिये.

हुड्डा ने कहा कि हरियाणा में पहली बार हिंसा नहीं हुई है, इससे पहले जाट आन्दोलन में भी ऐसे ही हिंसा हुई थी लेकिन सरकार कुछ नहीं कर पाई थी, सरकार बार बार फेल हो रही है, ऐसा लगता है कि हरियाणा में सरकार नाम की चीज ही नहीं है. कानून व्यवस्था का बुरा हाल है.

भूपिंदर सिंह हुड्डा ने कहा कि यह केवल हम नहीं कह रहे हैं, हरियाणा हाई कोर्ट भी यही कह रहा है कि राजनीतिक फायदे के लिए पंचकूला को जलने के लिए छोड़ दिया गया. हमारी नहीं तो सरकार को हाई कोर्ट की बात माननी चाहिए और इस्तीफ़ा देना चाहिए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: