Aug 29, 2017

पंजाब में भी हुई थी हिंसा, आगजनी लेकिन कांग्रेस ने सिर्फ खट्टर से माँगा इस्तीफ़ा: पढ़ें क्यों


congress-and-paid-media-exposed-conspiracy-against-khattar-sarkar

खट्टर के खिलाफ साजिश करने वाली कांग्रेस की पोल खुलने लगी है. 26 अगस्त को राम रहीम को सजा सुनाए जाने के बाद पंचकूला और सिरसा में हिंसा-आगजनी हुई थी. जिस तरह की हिंसा हरियाणा में हुई, उसी तरह की हिंसा पंजाब में हुई, वहां भी कर्फ्यू लगाया गया, मोंगा के डागरू गाँव में एक रेलवे स्टेशन फूंक दिया गया, कई गाड़ियाँ जला दी गयीं, कई लोगों के घायल होने की खबर आयी लेकिन कांग्रेस पार्टी ने सिर्फ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से इस्तीफ़ा माँगा. उन्हें पंजाब की हिंसा दिखी ही नहीं, उन्हें पंजाब की कानून व्यवस्था दिखी ही नहीं. पंजाब में उन्होंने अपनी आँखों पर पट्टी बाँध ली क्योंकि पंजाब में कांग्रेस की ही सरकार है. उन्हें सिर्फ खट्टर सरकार की कुर्सी से मतलब था.

मीडिया भी बिक गयी, नही दिखे अमरिंदर सिंह

सबसे हैरानी की बात तो यह थी कि खट्टर को सभी मीडिया चैनल खटारा बता रहे थे जबकि उन्होने पंचकूला चंडीगढ़ में सेना-CRPF तैनात कर दी थी लेकिन किसी भी मीडिया चैनल ने पंजाब की कांग्रेस सरकार से कोई सवाल नहीं किया. अगर डेरा प्रेमी हरियाणा में हैं तो डेरा प्रेमी पंजाब में भी हैं. अगर बाबा राम रहीम के भक्त हरियाणा से आए थे तो उनके भक्त पंजाब से भी आए थे. पंजाब से ज्यादा आए होंगे लेकिन किसी भी मीडिया चैनल ने यह नहीं कहा कि पंचकूला में भीड़ जुटने के लिए अमरिंदर सिंह भी जिम्मेदार हैं और इन्हें भी इस्तीफ़ा देना चाहिए. हर कोई खट्टर के पीछे पड़ गया था. हर कोई उनका इस्तीफ़ा मांग रहा था. पंजाब की कांग्रेस सरकार से ना तो कोई सवाल कर रहा था और ना ही उनका इस्तीफ़ा मांग रहा था क्योंकि साजिश करने वाले अपनी सरकार का इस्तीफ़ा क्यों मांगेंगे.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: