Jul 30, 2017

पढ़ें, धीरे धीरे क्यों बदल रहा है महबूबा का रंग, क्या है वजह


why-mehbooba-mufti-color-changing-in-kashmir

आप देख रहे होंगे कि जैसे जैसे अलगाववादियों पर कार्यवाही बढ़ती जा रही है वैसे वैसे महबूबा मुफ़्ती का रंग बदलने लगा है, कल ही उन्होने तिरंगे के बारे में अपमानजनक शब्द कहे थे, उन्होंने कहा था कि अगर आर्टिकल 35(A) के साथ छेड़छाड़ की गयी तो कश्मीर में तिरंगे को कोई कंधा देने वाला भी नहीं मिलेगा. उन्होंने यह भी कहा था कि अलगाववादियों पर कार्यवाही से कश्मीर समस्या का हल नहीं होगा, आज उन्होने पाकिस्तान से व्यापार जारी रखने की वकालत भी कर दी.

क्यों बदल रहा है महबूबा का रंग

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि वर्ष 2014 लोकसभा चुनाव से पहले महबूबा मुफ़्ती की पार्टी पीडीपी बीजेपी की कट्टर विरोधी पार्टी थी, ये लोग अलगाववाद और पाकिस्तान का समर्थन करते थे, ये लोग पत्थरबाजों का समर्थन करते थे, महबूबा मुफ़्ती खुद पत्थरबाजों का समर्थन करती थी और उनके साथ रैलियां करती थीं, महबूबा मुफ़्ती ने खुद कई बार कहा है कि ये मेरे बच्चे हैं, मैंने इनके साथ काम किया है.

महबूबा मुफ़्ती को पता है कि कश्मीर में कट्टर इस्लामिक चरमपंथ हावी है, इसी के दम पर उन्होंने कश्मीर में 26 सीटें जीती थीं और आज कश्मीर की मुख्यमंत्री हैं, इन अलगाववादियों ने भी उनका समर्थन किया था, अब अलगाववादियों पर एक्शन हो रहा है तो महबूबा मुफ़्ती को पसंद नहीं आ रहा है, अब वे धीरे धीरे अलगाववादियों के समर्थन में आ रही हैं.

अब महबूबा मुफ़्ती ने तीन साल शासन कर लिया है, मलाई खा ली है, अब धीरे धीरे वे बीजेपी के खिलाफ बयान देंगी, धीरे धीरे कट्टरपंथियों का साथ देना शुरू कर देंगी और चुनाव नजदीक आते ही फिर से पाला बदलकर अलगावादियों और पाकिस्तान की समर्थक बन जाएगीं ताकि चुनाव में कट्टरपंथी और जिहादी लोग फिर से उनका साथ दें, आपने देखा होगा कि अब वोट के लिए उमर अब्दुल्ला और उनके पिता फारूख अब्दुल्ला भी ऐसी ही बातें कर रहे हैं, अगर महबूबा मुफ़्ती बीजेपी के साथ रहीं और अलगाववादियों का समर्थन नहीं किया तो अगली बार वे काश्मरी से साफ़ हो जाएंगी, इसलिए महबूबा मुफ़्ती अब अपना रंग बदल रही हैं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

1 comment:

  1. She may be like a chameleon but what is our Home Minister doing. Why are they unable to act on the basis of report of NIA for stopping cross border trade with POK, which is used as a shield for terror funding in Kashmir.

    ReplyDelete