Jul 30, 2017

मोदी नीतीश की दोस्ती पर शरद यादव ने तोड़ी चुप्पी, जाहिर किये खतरनाक इरादे: पढ़ें


sharad-yadav-criticise-modi-sarkar-after-bjp-jdu-alliance-in-bihar

मोदी और नीतीश की दोस्ती पार्ट-2 की खबर सुनकर JDU राज्य सभा सांसद और पूर्व पार्टी अध्यक्ष शरद यादव को सबसे बड़ा झटका लगा है, ये झटका इतना बड़ा था कि उन्हें दो दिनों तक होश नहीं आया, लोग इन्तजार करते रहे कि वे कुछ बोलें लेकिन उन्होंने खुद को अपने घर में बंद कर लिया, खुद को टीवी मीडिया से दूर कर दिया, राज्य सभा जाना बंद कर दिया, उन्हें समझ में ही नहीं आ रहा है कि क्या बोलूं क्या ना बोलूं.

आज शरद यादव ने पहली बार अपना मुंह खोला है और इशारों इशारों में अपनी आगे की रणनीति का खुलासा किया है, उन्होंने वही बात बोली है जो राहुल गाँधी बोल रहे हैं, इसलिए ऐसा लगता है कि वे कांग्रेस पार्टी के ही साथ रहेंगे, ये भी हो सकता है कि वे कांग्रेस पार्टी ज्वाइन कर लें. 

शरद यादव ने कहा है कि ना तो विदेश से कालाधन आया और ना ही उन लोगों पर कोई कार्यवाही हुई जिनके नाम पनामा पेपर्स में आये हैं, विदेशों से काला धन वापस लाना बीजेपी सरकार का मुख्य नारा था. शरद यादव ने ये बयान देकर इशारा कर दिया है कि वे बीजेपी मोदी का विरोध जारी रखेंगे.

shara-yadav-latest-news-in-hindi

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कल शरद यादव ने अपने घर पर बागी नेताओं की एक मीटिंग बुलाई थी जिसमें अली अनवर भी पहुंचे थे. ऐसा लगता है कि शरद यादव अपनी अलग पार्टी बना सकते हैं हालाँकि शरद यादव ने सोचने के लिए दो दिन का समय माँगा है.

यह भी खबर आ रही है कि नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ सरकार बनाने की खबर शरद यादव को नहीं बताई और ना ही पार्टी के सीनियर नेताओं से कोई चर्चा की, शायद यादव इस बात को लेकर बहुत नाराज हैं लेकिन ऐसा लगता है कि नीतीश कुमार को शरद यादव पर भरोसा नहीं था, शरद यादव लालू और कांग्रेस के बहुत नजदीक हैं और राज्य सभा में भी वे हमेशा कांग्रेस के साथ रहते हैं. नीतीश ने सोचा होगा कि अगर उनसे चर्चा की गयी तो वे तुरंत लालू यादव और कांग्रेस से यह बात लीक कर देंगे और उनका खेल खराब हो जाएगा.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: