Jul 12, 2017

राजनाथ बोले 'कश्मीरियत जिन्दा है' तो लोग बोले 'अपने परिवार को बिना सुरक्षा कश्मीर घुमाकर दिखाओ'


rajnath-singh-slams-on-social-media-for-praising-kashmiriyat

कश्मीर के अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों की बस पर आतंकी हमले में 7 लोगों की हत्या के बाद राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि कश्मीर के लोगों को मेरा बार बार सलाम है क्योंकि उन्होंने आज भी कश्मीरियत को जिन्दा रखा है. राजनाथ सिंह के इस बयान का सोशल मीडिया पर काफी विरोध हो रहा है, लोग कह रहे हैं कि अगर कश्मीरियत जिन्दा है तो अपने परिवार के सदस्यों को बिना सुरक्षा कश्मीर घुमाकर दिखा दो तो हम मान लेंगे कि कश्मीरियत जिन्दा है. फेसबुक पर राजनाथ सिंह की बहुत आलोचना हो रही है, लोग उनका इस्तीफ़ा भी मांग रहे हैं. देखिये क्या कह रहे हैं लोग -


आपको बता दें कि अगर कश्मीरी लोगों ने सच में कश्मीरियत को जिन्दा रखा होता तो अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए 50 हजार जवानों की जरूरत ही नहीं पड़ती, अगर कश्मीरी लोगों ने सच में कश्मीरियत को जिन्दा रखा होता तो स्थानीय लोग इस हमले में आतंकियों की मदद ही ना करते और 7 लोग मारे ही ना जाते, इसके अलावा बुरहान वानी जैसे आतंकवादी पैदा ही नहीं हो पाते, अगर कश्मीर के लोगों ने सच में कश्मीरियत को जिन्दा रखा होता तो हजारों पत्थरबाज पैसों के लालच में भारतीय सैनिकों पर पत्थरबाजी ना करते, अगर कश्मीरी लोगों ने सच में कश्मीरियत को जिन्दा रखा होता तो कांग्रेसी नेता सैफुद्दीन सोज कभी नहीं कहते कि वे आतंकवादी बुरहान वानी को जिन्दा रखना चाहते हैं, अगर कश्मीर के लोगों की कश्मीरियत जिन्दा होती तो पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला और उनके बेटे उमर अब्दुल्ला खुलकर पत्थरबाजों, अलगाववादियों और आतंकवादियों का समर्थन ना करते लेकिन ये लोग खुलकर ऐसा करते हैं.

यह भी खबर आ रही है कि राजनाथ सिंह के अंडर आने वाले खुफिया विभाग IB ने 30 बार आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया था, उन्होंने यह भी कहा था कि लोकल लोग आतंकियों की मदद कर रहे हैं, इसके बावजूद भी राजनाथ सिंह कह रहे हैं कि कश्मीरियों की कश्मीरियत जिन्दा है और वे कश्मीर के लोगों को बार बार सलाम करते हैं. राजनाथ सिंह शायद भूल गए हैं कि कश्मीर में क्या हो रहा है, राजनाथ सिंह शायद भूल गए हैं कि कश्मीर में आतंकियों के मारे जाने के बाद हजारों लोग जनाजे में इकठ्ठे होते हैं और भारत को बर्बाद करने के नारे लगाते हैं.

क्या कहा राजनाथ सिंह ने
कल अमरनाथ यात्रियों के ऊपर अनंतनाग में जो आतंकी हमला हुआ है उससे हमें बहुत दुःख पहुंचा है, पूरा देश उस घटना के बाद सदमें में है, यह घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद रही है लेकिन मैं अपने कश्मीर के भाइयों और बहनों का अभिनंदन करना चाहता हूँ और उन्हें सोल्युट करना चाहता हूँ, कश्मीर के समाज के हर सेक्शन ने इस घटना की निंदा की है, मैं बार बार कश्मीर की जनता का सलाम करना चाहता हूँ. मैं कह सकता हूँ कि कश्मीरियत की तरो ताजगी आज भी कश्मीर के लोगों में जिन्दा है, अभी तक किसी ने भी इस आतंकवादी हमले की तारीफ नहीं की है. कश्मीर के लोगों ने मेरा हौसला बढ़ाया है और मैं पूरी कश्मीर की जनता को सोल्युट करता हूँ.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: