Jul 10, 2017

चोरी के बाद राहुल गाँधी की सीनाजोरी, बोले ‘हाँ मैं चीनी दूत से मिला था और मिलूँगा’ क्योंकि


rahul-gandhi-attack-pm-modi-defends-meeting-with-chinese-envoy

राहुल गाँधी 8 जुलाई को चुपचाप चीनी राजदूत से मिले थे, उन्होने और उनकी पार्टी कांग्रेस ने पूरे देश को जाहिर नहीं होने दिया कि उन्होंने चीनी राजदूत से मुलाक़ात की है क्योंकि उन्हें पता था कि अगर राहुल गाँधी और चीनी राजदूत की मुलाक़ात के बारे में लोगों को पता चल जाएगा तो राहुल गाँधी और कांग्रेस की बहुत आलोचना होगी, हालाँकि कांग्रेस की चालाकी धरी की धरी रह गयी और राहुल गाँधी का भेद खुल गया.

अब आप देखिये, पहले तो राहुल गाँधी ने छुपकर चीनी राजदूत से मुलाक़ात की, पूरे देश से सच्चाई छुपाई, यही नहीं सच बाहर आने के बाद भी कांग्रेस पार्टी इसे गलत बताती रही, अब जब राहुल गाँधी का भेद खुल गया है तो वह सीनाजोरी कर रहे हैं और मोदी सरकार पर ही हमला बोल रहे हैं.
इससे भी शर्मनाक बात ये है कि राहुल गाँधी ने अपने बचाव के लिए मोदी की वर्ष 2014 की वह फोटो ट्वीट की है जिसमें मोदी गुजरात में जिनपिंग के साथ एक झूले पर बैठे हैं और उनसे बातचीत कर रहे हैं. खैर वहां भी मोदी ने खुलेआम चीनी राष्ट्रपति से मुलाकात की थी लेकिन राहुल गाँधी तो छुपर मिलते हो और ऐसा केवल Traitor करते हैं.

अब राहुल गाँधी कह रहे हैं कि अगर मोदी BRICS मीटिंग में चीनी राष्ट्रपति सी जिनपिंग से मिल सकते हैं तो वह भारत में चीनी राजदूत से क्यों नहीं मिल सकते, राहुल गाँधी जी, मोदी ने तो खुलेआम जिनपिंग से मुलाकात की थी लेकिन आपने तो छुपकर चेनी दूत से मुलाकात की है, अगर आपमें हिम्मत होती तो आप भी खुलेआम मुलाकात करते और मीडिया में बयान जारी करते लेकिन आपने तो ऐसा नहीं किया.
राहुल गाँधी इसपर ही नहीं रुके, उन्होंने कहा कि हां मैं चीनी राजदूत से मिला था और यह मेरा जॉब है, मुझे क्रिटिकल इश्यूज की जानकारी मिलनी चाहिए, मैंने चीनी राजदूत, पूर्व NSA और भूटान के राजदूत से मुलाक़ात की है, अगर सरकार को मेरी चीनी दूत के साथ मुलाक़ात से दिक्कत है तो उनके तीन मंत्री चाइना क्यों गए, राहुल गाँधी जी, शायद आपको पता नहीं है कि ये मंत्री काम से चाइना गए थे और बताकर गए थे, आपकी तरह छुपर तो नहीं गए.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

1 comment: