Jul 12, 2017

3 गोलियां खाकर 50 जान बचाने वाले ड्राईवर हर्ष देसाई को नहीं बनाया गया हीरो: पढ़ें क्यों


harsh-desai-is-real-hero-of-amarnath-terrorists-attack-not-saleem

मीडिया के दोगलेपन की पोल खुल गयी है, मीडिया ने उसे हीरो नहीं बनाया जिसनें अपनी जान पर खेलकर 50 यात्रियों की जान बचाई थी बल्कि उसे हीरो बना दिया जिसको एक भी गोली नहीं लगी और जो साइड हीरो का रोल निभा रहा था मतलब बस का कंडक्टर था.

आपको बता दें कि अमरनाथ यात्री बस पर जब आतंकियों ने हमला किया तो उस वक्त बस भले ही सलीम चला रहा था लेकिन बस के मेन ड्राईवर हर्ष देसाई थे और बस भी उन्हीं की थी, हमले के वक्त वे साइड में बैठे थे, आतंकियों ने सबसे पहले हर्ष देसाई को ही मारने की कोशिश की और उनपर तीन गोलियां चलाईं लेकिन हर्ष देसाई ने सलीम को बस चलाते रहने को कहा और खुद आतंकियों से लोहा लेने के लिए तैयार हो गए.

हर्ष देसाई को तीन गोलियां लगने के बाद भी वे गेट की तरफ आ गए और बस में घुसने का प्रयास कर रहे आतंकियों को धक्का देकर बाहर गिरा दिया, उधर सलीम बस चलाता रहा और पुलिस चेक पोस्ट पर जाकर बस रोक दी.

हर्ष देसाई ने अपनी जान पर खेलकर और तीन गोलियां खाकर 50 लोगों की जान बचाई, अगर हर्ष देसाई बहादुरी ना दिखाते तो आतंकी बस के अन्दर घुस जाते और सभी यात्रियों को ख़त्म कर देते.

यहाँ पर हर्ष देसाई को फिल्म का मेन हीरो बनाना चाहिए था जबकि सलीम को साइड हीरो बनाना था लेकिन हर्ष देसाई को इसलिए हीरो नहीं बनाया गया क्योंकि उनके नाम में मुस्लिम शब्द नहीं लगा था, उन्हें हीरो बनाने से मीडिया को TRP नहीं मिलती.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

5 comments:

  1. Do tarah k news kiyon post kiya gaya hai sach samne aap v na la sake.ulte confusion me daal diye.

    ReplyDelete
  2. *वो आज मशहूर हो गए जो कभी काबिल न थे....*

    *और मंजिले उनको मिली जो दौड़ में कभी शामिल न थे....*

    ReplyDelete
  3. Harsh himself has accepted on abp news channel that Salim was driving the bus and he told Salim not to stop the bus and keep going on. Moreover some of pilgrims have told the same thing in tv inter views. Then why disguising the people with the fake news. Shame on you for being so communal.

    ReplyDelete
  4. Why this fake news you are publishing, for your ....... TRP. Unfortunately, you have already described it, repeat your blog for few times and you will find your mistakes. Idiot.
    We know it very well. Because, at that time I was not in duty but I was physically there and trying to pass my rest time when the bus was stopped. No any bus staff are injured.

    ReplyDelete