Jul 28, 2017

बीजेपी से डरकर 44 कांग्रेसी विधायकों को गुजरात से भगाया गया बैंगलोर, रहेंगे नजरबन्द: पढ़ें क्यों


gujarat-news-44-congress-mlas-leave-for-bengaluru-afraid-from-bjp

गुजरात में जबरजस्त राजनीतिक नौटंकी चल रही है, कांग्रेस पार्टी में पिछले तीन दिनों से भगदड़ मची हुई है, करीब 9 कांग्रेसी विधायकों ने इस्तीफ़ा देकर बीजेपी ज्वाइन कर लिया है, कांग्रेसी पार्टी बीजेपी से इतना घबरा गयी है कि अपने 44 विधायकों को गुजरात से बैंगलोर भगा दिया है, इन लोगों को अगले महीनें 6 तारीख तक होटल में नजरबन्द करके रखा जाएगा ताकि इनमें से कोई बीजेपी ज्वाइन ना कर पाए. सभी विधायकों को आज फ्लाइट से बैंगलोर के लिए रवाना कर दिया गया है, कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार है इसीलिए इनके लिए बैंगलोर ही सबसे सेफ जगह मानी गयी.

गुजरात से भागते हुए एक कांग्रेसी विधायक शैलेश परमार ने बताया कि हम बीजेपी को उनके अभियान में कामयाब नहीं होने देंगे इसलिए बैंगलोर जा रहे हैं, बीजेपी वाले हमें पैसे और पद का लालच देकर कांग्रेस से इस्तीफ़ा दिलवा रहे हैं, हम पर प्रेशर डाला जा रहा है, इसलिए हम बैंगलोर भाग रहे हैं.

आपको बता दें कि 9 विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने बीजेपी पर खरीद फरोख्त का आरोप लगाया था, एक कांग्रेसी विधायक पूनाभाई गुमीत ने तो ये भी कहा था कि बीजेपी ने उसे 10 करोड़ रुपये में खरीदने की कोशिश की थे लेकिन वह नहीं बिके.

कांग्रेस के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री रवि शंकर ने हँसते हुए कहा था कि कांग्रेस डूबता जहाज है इसलिए लोग उतर उतर कर भाग रहे हैं, कांग्रेस के लोग अपना घर तो बचा नहीं पा रहे हैं, हम पर आरोप लगा रहे हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गुजरात में अगले महीनें 8 अगस्त को राज्य सभा चुनाव हैं, कांग्रेस के अहमद पटेल राज्य सभा का चुनाव लड़ने वाले हैं लेकिन उन्हें कम से कम 44 विधायकों का समर्थन चाहिए, जिस हिसाब से कांग्रेस के विधायक इस्तीफ़ा दे रहे हैं और बीजेपी ज्वाइन कर रहे हैं उस हिसाब से तीन चार दिन में कांग्रेस पार्टी साफ़ हो जाएगी, इसीलिए आज बचे हुए 44 विधायकों को बैंगलोर शिफ्ट कर दिया गया. अब इन्हें 8 अगस्त तक नजरबन्द करके रखा जाएगा ताकि कोई विधायक बीजेपी से मिलने ना पाए. चुनाव के बाद इन्हें छोड़ दिया जाएगा.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: