Jul 30, 2017

अपने विधायकों को नजरबन्द करके कांग्रेस ने साबित किया, ना खुद पर भरोसा, ना विधायकों पर: पढ़ें


congress-party-proved-they-dont-trumt-their-mlas-in-gujarat

अपने विधायकों को गुजरात से बैंगलोर भगाकर कांग्रेस पार्टी से साबित कर दिया है कि उसे ना तो अपनी नेतृत्व क्षमता पर भरोसा है और ना ही अपने विधायकों पर भरोसा है, अगर कांग्रेस पार्टी चाहती तो एक मीटिंग करके विधायकों को अपने साथ रहने के लिए मना सकती थी, अगर हाथ पैर जोड़ने पड़ते तो वह भी कर लेती लेकिन सभी विधायकों को बैंगलोर ले जाकर और उन्हें वहां के एक रिजोर्ट में बंद करके कांग्रेस से साबित कर दिया है कि उसे अपनी नेतृत्व क्षमता पर भरोसा नहीं है.

कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गाँधी देश भर में घूम घूम कर नोटबंदी और GST के खिलाफ भाषण दे रहे हैं, केंद्र सरकार के खिलाफ अभियान चला रखे हैं लेकिन वे अपने विधायकों को ही नोटबंदी और GST के खिलाफ नहीं कर पाए तो देशवासी उनकी बात कैसे मानेंगे. जब नोटबंदी, सर्जिकल स्ट्राइक और GST बिल से खुश होकर कांग्रेस पार्टी के विधायक ही बीजेपी से जुड़ रहे हैं तो देशवासी तो और बीजेपी से जुड़ेंगे.

अपने विधायकों पर भरोसा ना करके कांग्रेस पार्टी ने अपने ही पैरों में कुल्हाड़ी मार ली है, सिर्फ एक राज्य सभा सीट के लिए कांग्रेस ने अपने 44 विधायकों को बैंगलोर ले जाकर बंद कर लिया, अगर कांग्रेस को अपनी नेतृत्व क्षमता पर भरोसा होता तो सभी कांग्रेसी नेता गुजरात जाते और अपने विधायकों को समझाते, उन्हें अपने साथ रहने के लिए राजी करते लेकिन कांग्रेस ने अपने विधायकों पर शक करते हुए उन्हें बैंगलोर भगा दिया, उनके फोन को जब्त कर लिए और उन्हें निहत्था कमरे में बंद कर दिया ताकि वे किसी से फोन पर बात ना कर पाएं, कांग्रेस ने यह सब सिर्फ इसलिए किया है क्योंकि उन्हें अपने विधायकों पर भरोसा नहीं है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: