Jun 20, 2017

TRS, BJD पार्टियों ने दे दिया रामनाथ कोविंद को समर्थन, शिवसेना ने नहीं दिया, सुलग रहे हैं उद्धव


shivsena-not-supported-ramnath-kovind-president-but-trs-bjd-give
New Delhi, 20 June: एक बहुत ही हैरानी वाली खबर है जिसे पढ़कर साफ़ हो जाएगा कि शिवसेना भारतीय जनता पार्टी की दोस्त नहीं बल्कि मतलब का यार है और समय आने पर दुश्मनों से भी खतरनाक हो जाती है, आप खुद देखिये, आज भारतीय जनता पार्टी ने राष्ट्रपति पद के लिए रामनाथ कोविंद का नाम प्रस्तावित किया, उनका नाम सामने आने के कुछ ही देर बाद तेलंगाना राष्ट्र समिति के अध्यक्ष और तेलंगाना के मुख्यमंत्री KC Rao ने राम कोविंद को समर्थन दे दिया.

इसके कुछ ही देर बाद बीजू जनता दल के अध्यक्ष और ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी रामनाथ कोविंद को समर्थन दे दिया, नवीन पटनायक ने कहा कि वे राष्ट्रपति जैसे पद के लिए राजनीति नहीं करना चाहते और ना ही इसे राजनीतिक मुद्दा बनाना चाहते हैं इसलिए हम रामनाथ कोविंद का समर्थन करते हैं.

अब तेलंगाना के मुख्यमंत्री KC Rao को देखिये, उन्हें जैसे ही प्रधानमंत्री ने फोन करके अपने निर्णय के बारे में बताया, वे तुरंत ही रामनाथ कोविंद को समर्थन देने पर राजी हो गए.
शिवसेना मतलब, दुश्मन ना करे दोस्त ने वो काम किया है 
आपने देखा, ये दोनों पार्टियाँ क्षेत्रीय और बीजेपी की राजनीतिक विरोधी हैं लेकिन दोनों ने तुरंत ही बीजेपी उम्मीदवार का समर्थन कर दिया लेकिन शिवसेना ने कहा कि वो ऐसे उम्मीदवार का समर्थन नहीं करेगी जिसे वोटबैंक के लिए राष्ट्रपति बनाया जा रहा है. देखए उद्धव ठाकरे का बयान - 
आपने देखा, तेलंगाना और ओडिशा के मुख्यमंत्रियों ने समर्थन देने में कोई आनाकानी नहीं की, ये दोनों पार्टियाँ NDA की सहयोगी भी नहीं हैं, लेकिन शिवसेना NDA की केंद्र और BJP के साथ महाराष्ट्र सरकार में साझीदार है, इसके बावजूद भी उद्धव ठाकरे ने समर्थन देने से इनकार कर दिया. अब आप समझ सकते हैं कि बीजेपी के लिए शिवसेना - दुश्मन ना करे दोस्त ने जो काम किया है.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: