Jun 9, 2017

अगर मोदी सरकार सभी किसानों का कर्जमाफ़ करेगी तो कांग्रेस को होगा बम्पर लाभ, 2019 में मोदी की हार


farmer-karz-maafi-harmful-for-modi-sarkar-in-2019-election

New Delhi: आज कांग्रेस की अगुवाई में पूरे देश में किसानों की कर्जमाफी की मांग हो रही है, मोदी सरकार बहुत बड़ी मुसीबत में फंस गयी है क्योंकि राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के किसान कर्जमाफी के लिए हिंसक प्रदर्शन कर रहे हैं, सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं.

किसानों की कर्जमाफी से कांग्रेस को फायदा

आप सोच रहे होंगे कि कांग्रेस पार्टी किसानों की कर्जमाफी के लिए क्यों परेशान हैं, उन्होंने अपने समय में तो किसी भी राज्य में किसानों का कर्ज माफ़ नहीं किया. हम आपको बताते हैं, दरअसल कांग्रेस मोदी सरकार को आर्थिक मुद्दों पर घेरना चाहती है. कांग्रेस चाहती है कि मोदी सरकार केंद्रीय खजाने से देश के सभी किसानों का कर्ज माफ़ कर दे.

कांग्रेस किसानों की कर्जमाफी की मांग इसलिए कर रही है क्योंकि वह जानती है कि कर्ज माफ़ करने के बाद सरकारी खजाने का बहुत बड़ा नुकसान होगा, मोदी सरकार के पास देश का विकास करने के लिए पैसे ही नहीं होंगे तो विकास के सभी काम रोकने पड़ेंगे. इस वक्त देश की ECONOMY सरकारी खजाने से चल रही है क्योंकि नोटबंदी के बाद सरकारी खजाने में बहुत पैसा आया है और उसी पैसे से विकास के हजारों प्रोजेक्ट चल रहे हैं.

कांग्रेस को मिलेंगे मोदी सरकार के खिलाफ तीन मुद्दे

मोदी सरकार किसानों का कर्ज माफ़ करेगी तो यह किसानों के लिए अच्छा काम होगा लेकिन किसान जल्द ही मोदी सरकार के इस अच्छे काम को भी भूल जाएंगे क्योंकि हमारे देश के लोगों को भूलने की आदत है. लेकिन कांग्रेस को मोदी सरकार के खिलाफ तीन बड़े मुद्दे मिल जाएंगे जिसमें वे लोग भी कांग्रेस का साथ देंगे जिन लोगों का कर्ज मोदी सरकार ने माफ़ किया है.

कांग्रेस को मिलेगा GDP का मुद्दा 

किसानों का कर्ज माफ़ करने से देश को बहुत अधिक वित्तीय घाटा होगा क्योंकि कर्ज माफ़ करने पर सरकारी खाजने पर 5 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा, मतलब अगर देश में 20 लाख करोड़ रुपये हैं तो उसमें से एक तिहाई यानी 5 लाख करोड़ रुपये केवल किसानों की कर्ज माफी पर ही खर्च हो जाएंगे. इससे देश की GDP जो अभी 7.1% है वह घटकर 4-5% हो जाएगी, इसके बाद कांग्रेस घटती GDP का मुद्दा उठाएगी, आपने देखा होगा कि नोटबंदी के बाद GDP थोडा कम हुई है तो कांग्रेस ने इसे एक बड़ा मुद्दा बनाया हुआ है, अगर GDP 2-3% घट जाएगी तब तो कांग्रेस कोहराम मचा देगी. कांग्रेस कहेगी कि मोदी ने देश को बर्बाद कर दिया, यह नहीं कहेगी कि किसानों का कर्ज माफ़ होने से GDP कम हुई है.

कांग्रेस को मिलेगा मंहगाई का मुद्दा

अब आप सोचिये अगर 20 लाख करोड़ रुपये में से 5 लाख करोड़ रुपये किसानों की कर्जमाफी में खर्च हो जाएगें तो सरकार के पास देश का विकास करने का पैसा कहाँ से आएगा, इस 5 लाख करोड़ की भरपाई के लिए सरकार को पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ानें पड़ेंगे, इसके अलावा कई चीजों पर टैक्स बढ़ाना पड़ेगा, अगर ऐसा किया गया तो देश में बहुत अधिक मंहगाई बढ़ेगी, इसके बाद कांग्रेस देश में मंहगाई बढ़ने का मुद्दा उठाकर मोदी सरकार को घेरेगी.

कांग्रेस को मिलेगा किसानों को परेशान करने का मुद्दा

किसानों की कर्जमाफी से कर्ज लेने वाले किसानों का मनोबल बढ़ेगा, इसके बाद तो लोग बिना जरूरत के ही बैंकों से लाखों रुपये का लोन लेने लगेंगे और पैसा लेकर खा जाएंगे, अब लोन लेने वाले किसान इसी इन्तजार में रहेंगे कि कोई सरकार आए और उनका लोन माफ़ कर दे, लोन वसूलने के लिए सरकार उनके साथ सख्ती भी नहीं कर सकेगी क्योंकि अगर किसी किसान को गिरफ्तार किया गया तो विपक्ष वाले सरकार पर यह आरोप लगा देंगे कि किसानों को परेशान किया जा रहा है, उन्हें सताया जा रहा है.

ये तीनों मुद्दे इतने बड़े मुद्दे हैं कि कांग्रेस 2019 के चुनाव में मोदी को उखाड़ फेंकेगी क्योंकि तब तक देश के किसान भूल जाएंगे कि मोदी सरकार ने कभी उनका कर्जमाफ़ किया था, दो साल बाद वे खुद देश में मंहगाई बढ़ाने का आरोप लगाते हुए मोदी सरकार से दूर चले जाएंगे, वहीँ देश का पढ़ा लिखा तबका मोदी सरकार पर GDP कम करने का आरोप लगाकर उनसे दूर चला जाएगा.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: