May 30, 2017

अगर मुस्लिम होते हैं गुनहगार तो कुछ मीडिया छुपाते है नाम, हिन्दू देखते ही मचाते है तांडव


when-muslims-conduct-crime-media-hide-their-name-read-why
New Delhi: कल दिल्ली में एक ई-रिक्शा ड्राइवर को 2 लोगों ने सिर्फ इसलिए पीट पीट कर मार डाला क्योंकि क्योंकि उसनें दोनों युवाओं को खुले में पेशाब करने से मना किया था, दोनों हत्यारे युवक मुस्लिम हैं और उनके नाम - मोहम्मद आरिफ और मुहम्मद अरबाज हैं लेकिन मीडिया ने उनका नाम जानते हुए भी नहीं बताया क्योंकि इससे इस्लाम धर्म खतरे में आ जाता है और दोगले मीडिया इस बात का बहुत ख्याल रखते हैं, अगर पीटने वाले हिन्दू धर्म के होते, सवर्ण होते और जिसकी हत्या हुई है, वह दलित होता तो मीडिया वाले पीटने वालों की जाती, धर्म और गोत्र तक बता देते ताकि दलित राजनीति करने वालों को सरकार के खिलाफ बोलने का मौका मिल जाए.

ई-रिक्शा ड्राइवर रविन्द्र की कोई गलती नहीं थी, वह तो मोदी सरकार के स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित था, बीमारियों के प्रति जागरूक था, दिल्ली में GTB मेट्रो स्टेशन से बाहर दोनों मुस्लिम युवक खुले में पेशाब कर रहे थे, दोनों युवक दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ते हैं, उन्हें शायद मोदी सरकार या मोदी के स्वच्छ भारत अभियान ने बहुत नफरत रही होगी इसलिए जैसे ही ई-रिक्शा ड्राइवर ने उन्हें पेशाब करने से रोका, दोनों को इतना गुस्सा आ गया कि उसकी पीट पीटकर जान ले ली लेकिन दोगली मीडिया ने दोनों युवकों का नाम छुपा लिया.

अगर यही घटना किसी मुस्लिम के साथ हुई होती और पीटने वाले हिन्दू होते तो मीडिया वाले छापते - राजपूतों ने निर्दोष मुस्लिम की पीट पीट कर की हत्या. इसके बाद सभी विरोधी राजनीतिक पार्टियाँ मुस्लिम के घर का दौरा करतीं, असहिष्णुता का मुद्दा बनाया जाता और पूरे देश में बवाल मचा दिया जाया, पूरे विश्व में भारत को बदनाम कर दिया जाता, मानवाधिकार संगठन हरकत में आ जाते, अंतर्राष्ट्रीय अदालत और यूनाइटेड नेशन में यह मामला पहुँच जाता, मीडिया वाले और विपक्षी पार्टियाँ पूरे एक साल तक तांडव मचाते रहते.

दूसरा उदाहरण रामपुर की घटना का देखिये, दो दलित समाज की लड़कियों को 10-12 मुस्लिम युवकों ने खुलेआम छेड़ा, उनके साथ बदतमीजी की हद पार कर दी और VIDEO भी बना लिया लेकिन मीडिया वालों ने ना तो छेड़ने वालों का नाम बताया और ना ही धर्म बताया, ना ही इसे बड़ा मुद्दा बनाया, अगर इन दलित लड़कियों को राजपूत या सवर्ण छेड़ देते तो मीडिया अब तक कोहराम मचा चुका होता और राहुल गाँधी, केजरीवाल, मायावती, ममता बनर्जी अब तक रामपुर में डेरा डाल चुके होते.

खैर, जो हुआ सो हुआ, लेकिन मोदी सरकार तुरंत एक्शन में आयी, केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू ने रविन्द्र के घर का दौरा किया, उसकी पत्नी को MCD में नौकरी दी गयी और उसे स्वच्छ भारत अभियान में जान देने के लिए 1 लाख रुपये का इनाम दिया गया.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: