May 16, 2017

एजेंसी वाले देते हैं कम गैस, ग्राहक गालियाँ देते हैं मोदी, योगी और घरवालियों को: पढ़ें क्यों?


siddhi-vinayak-indane-service-gas-chori-in-modi-yogi-sarkar-up
Pratapgarh: भारत सरकार ने सभी गैस एजेंसियों को आदेश दे रखा है कि ग्राहकों को गैस सिलेंडर देते समय उसे तौल कर दें ताकि किसी भी ग्राहक को कम गैस ना मिले साथ ही गैस चोरी को भी रोका जा सके, शहरों में कुछ गैस एजेंसियां भारत सरकार के इस आदेश का पालन भी कर रही हैं लेकिन गाँवों में बहुत बुरा हाल है, वहां पर लगभग सभी ग्राहकों को कम गैस दी जा रही है, ग्राहकों को गैस देने से पहले उसमें दो ढाई किलो गैस निकाल ली जाती है और उनपर डुप्लीकेट सील लगा दिया जाता है या सील को ऊपर से सरका कर निकाल लिया जाता है और गैस निकालने के बाद वापस ऊपर से लगा दिया जाता है ताकि ग्राहकों को लगे कि सिलेंडर सीलबंद है और पूरा भरा हुआ है लेकिन ऐसा होता नहीं है.

आज प्रतापगढ़ जिले में बाबूगंज-अंतू स्थित सिद्धि विनायक इंडेन सर्विस (Siddhi Vinayak Indane Service) एजेंसी द्वारा गैस चोरी का पर्दाफाश किया गया.

एक ग्राहक जब गैस लेने पहुंचा तो उसे सीलबंद सिलेंडर दिया गया लेकिन दूसरे कर्मचारी ने लीकेज चेक करने के लिए सील खोल दिया और उसे बिना सील वाला सिलेंडर घर ले जाने के लिए दे दिया, यह एजेंसी वाला अपने पास इलेक्ट्रॉनिक वेटिंग मशीन नहीं रखता, कांटे वाली तराजू रखता है और जब कोई गरीब ग्राहक सिलेंडर तौलने के लिए कहता है तो यहाँ के कर्मचारी उसपर रौब झाड़ते हैं और कभी कभी उन्हें डांट भी देते हैं, मतलब अपनी दबंगई दिखाते हैं जिसकी वजह से लोग सिलेंडर को तौलकर देने को कहने से डरते हैं.

आज ग्राहक जीतेन्द्र सिंह गैस लेकर घर आया और घर पर इलेक्ट्रॉनिक वेटिंग मशीन से सिलेंडर तौला तो सिलेंडर 2.3 किलोग्राम कम निकला, खाली सिलेंडर 16.3 किलो का होता है जबकि उसमें 14.2 किलो गैस भरी होती है, सिलेंडर का पूरा भार 30.5 किलो होना चाहिए था लेकिन उसका भार केवल 28.2 किलो था.

ग्राहक ने बताया कि मेरे साथ कई बार ऐसा होता आया है, मेरा सिलेंडर जल्दी ख़त्म हो जाता है, मुझे पता नहीं था कि गैस एजेंसी वाला ही चोरी करता है, मैं इसके लिए कभी मोदी को गलत बोलता था, कभी योगी को गलत बोलता था और कभी अपनी पत्नी को गलत बोलता था कि तुमने सिलेंडर को जल्दी ख़त्म कर दिया, मैं पता नहीं क्या क्या बोलता था लेकिन अब पता चला कि गैस एजेंसी वाला ही चोर है.

इसके बाद ग्राहक जीतेन्द्र को पता चला कि उसका पडोसी शिवबहादुर गुप्ता भी आज ही सिलेंडर लाया है, उसनें शिवबहादुर को ये बात बतायी तो उसका भी सिलेंडर तौला गया, हैरानी की बात ये कि उसकी भी गैस 1.5 किलो कम थी. देखें VIDEO.

अब आप इनकी दबंगई की कहानी सुनिए, ग्राहक ने गैस चोरी के लिए एजेंसी के खिलाफ अंतू थाने में शिकायत की, एक पुलिस अफसर ग्राहक के साथ एजेंसी में गया, वहां पर सिलेंडर तौला गया तो कम निकला, दूसरे भरे हुए और सीलबंद सिलेंडर तौले गए तो उनमें पूरी गैस भरी थी. जब एजेंसी वाले की चोरी पकड़ी गयी तो उसनें कहा कि आपको तौलकर गैस लेनी चाहिए थे, अब आप खुद सोचिये, पहले तौलने की मांग करने वालों को डांटते हैं, उसके बाद ये सभी सिलेंडरों में से गैस की चोरी करते हैं, जब चोरी पकड़ी जाती है तो कहते हैं कि आप तौलकर लिया करो, मतलब जो ग्राहक तौलकर सिलेंडर नहीं लेगा ये लोग उसे कम गैस वाला सिलेंडर दे देंगे, अब सवाल यह उठता है कि ये लोग खुद ही कबूल कर रहे हैं कि जो ग्राहक तौलकर सिलेंडर नहीं लेंगे उन्हें कम गैस दी जाएगी, मतलब उन्हें लूट लिया जाएगा.

आपको दिखाते हैं, ग्राहक ने पुलिस में शिकायत भी दी है लेकिन गैस एजेंसी के मालिक ने बीजेपी नेताओं से बात करके पुलिस अफसरों पर राजनीति दबाव डलवाया जिसकी वजह से पुलिस अफसर ने ग्राहक से कहा कि एजेंसी वाले को एक और मौका दो, अगर आपके फिर से कम गैस दे तो मुझे बताना.

अब यहाँ पर यह समझने लायक है कि गैस चोरी के खिलाफ आवाज उठाने वाले ग्राहक को तो पूरी गैस मिलेगी लेकिन अन्य गरीब ग्राहकों का क्या होगा, उन्हें तो ऐसे ही लूटा जाता रहेगा क्योंकि गाँव में ज्यादातर लोग गरीब होते हैं और हर आदमी की हिम्मत नहीं होती कि एजेंसी मालिक के खिलाफ थाने में शिकायत कर सके, उसने अपनी और अपने परिवार की जान की फिक्र होती है क्योंकि ज्यादातर एजेंसी वाले गुंडे माफिया होते हैं या माफियनों से सम्बन्ध बनाकर रखते हैं और शिकायत करने वाले ग्राहक को सबक सिखाने का प्रयास जरूर करते हैं.

यहाँ पर योगी और मोदी सरकार की इज्जत का सवाल है क्योंकि गरीब ग्राहक चाहते हैं कि सरकार खुद छापा मारकर गैस चोरी कर रही एजेंसियों पर कार्यवाही करें, अगर ग्राहक को गैस कम मिलेगी तो वह इसके लिए मोदी और योगी सरकार को जिम्मेदार ठहरायेगा और उन्हें ही गालियाँ देगा क्योंकि भ्रष्टाचार, कालाबाजारी और गैस चोरी बंद करने का दावा ये लोग करते हैं. अब देखना है कि योगी और योगी सरकार इस एजेंसी मालिक के ऊपर कार्यवाही करके गैस चोरी को रोक पाती है या नहीं.
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: