May 23, 2017

हर सिलेंडर से 2 किलो गैस निकाल लेता था एजेंसी वाला, शिकायत पर MODI सरकार ने तुरंत लिया एक्शन


modi-sarkar-action-on-siddhi-vinayak-indane-service-antu-babuganj
Pratapgarh: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सत्ता संभालने के बाद सबसे पहले गैस कालाबाजारी बंद की, फर्जी कनेक्शन ख़त्म किये और आधार नंबर को बैंक खातों से जोड़कर ग्राहकों को सब्सिडी सीधा उनके बैंक खातों में भेजनी शुरू कर दी, मोदी के इस काम से सरकारी सब्सिडी की लूट तो बंद हो गयी लेकिन एजेंसी वालों की लूट बंद नहीं हुई, देखते ही देखते नकली सील बनायी जाने लगी और एजेंसी वालों ने भरे हुए सिलेंडर से गैस चोरी करके उसपर नकली सील लगाना शुरू कर दिया. हालाँकि अब इसका भी पर्दाफाश हो गया है और मोदी सरकार ने एक्शन लेना शुरू कर दिया है.

ग्राहकों को कैसे लूट रहे हैं एजेंसी वाले

मोदी सरकार ने सभी गैस एजेंसी वालों को आदेश दे रखा है कि ग्राहकों को सिलेंडर देने से पहले उसे तौला जाए ताकि किसी भी ग्राहक को कम गैस ना मिले लेकिन एजेंसी वाले ना तो इलेक्ट्रॉनिक काँटा रखते हैं और ना ही ग्राहकों को तौलकर सिलेंडर देते हैं क्योंकि वे पहले से ही गैस निकालकर रखते हैं, अगर ग्राहकों को तौलकर सिलेंडर देंगे या एजेंसी पर इलेक्ट्रॉनिक मशीन रखेंगे तो ग्राहक खुद ही अपना सिलेंडर तौल लेंगे और एजेंसी वालों की चोरी पकड़ ली जाएगी.

अब एजेंसी वालों ने ग्राहकों को लूटने का नया तरीका निकाल लिया है, अगर उनके पास रोजाना 500 सिलेंडर आते हैं तो उसमें से करीब 400 सिलेंडर से 2-2 किलो गैस निकाल लेते हैं और उसपर नकली सील लगा देते हैं. 100 सिलेंडर भरा हुआ रखते हैं. जो ग्राहक जिद करके सिलेंडर तौलने की मांग करते हैं उन्हें पूरा सिलेंडर दिया जाता है, जो ग्राहक बिना तौले ही सिलेंडर ले लेते हैं उन्हें 2 किलो कम वाला सिलेंडर दे दिया जाता है.

अब मान लो कोई ग्राहक 2 किलो कम गैस वाला सिलेंडर लेकर अपने घर गया और वहां पर उसका वजन किया और 2 किलो गैस कम निकली. अब मान लो ग्राहक वापस गैस एजेंसी पर आता है और हल्ला करता है तो एजेंसी वाले उसे ही डांटकर कहते हैं कि आपने तौलकर सिलेंडर क्यों नहीं लिया. जब ग्राहक ज्यादा ही हल्ला करता है तो एजेंसी वाले उसे भरा हुआ सिलेंडर देकर वापस भेज देते हैं, ये लोग चोरी खुद करते हैं और ग्राहकों को ही गलत ठहराने की कोशिश करते हैं. वैसे बहुत कम लोग हैं जो घर जाकर सिलेंडर तौलते हैं और बहुत कम लोग हैं तो घर से सिलेंडर लेकर वापस आते हैं. ऐसे लोग अपना गुस्सा सरकार पर निकालते हैं. 

शिकायत पर मोदी सरकार तुरंत लेती है एक्शन

इसमें कुछ गलती ग्राहकों की है क्योंकि लोग सिलेंडर का वजह नहीं करते, सबसे पहले तो ग्राहकों को गैस तौलकर लेनी चाहिए, गैस खरीदने पर एजेंसी वालों ने पर्ची लेनी चाहिए, कभी कभी घर आकर गैस को तौलना चाहिए, अगर गैस कम निकले तो पर्ची के पीछे एक शिकायत नंबर लिखा होता है, उसपर फोन करके शिकायत करनी चाहिए. मोदी सरकार शिकायत के बाद तुरंत एक्शन लेती है और चोर एजेंसी को सील कर देती है.

हाल ही में हमने एक गैस एजेंसी Siddhi Vinayak Indane Service, Antu-Babuganj Road, Pratapgarh, UP. द्वारा गैस चोरी का पर्दाफाश कर दिया और मोदी सरकार के पेट्रोलियम मंत्रालय में शिकायत कर दी, मोदी सरकार ने गैस एजेंसी पर तुरंत एक्शन किया और उसकी सप्लाई रोक दी है, अब एजेंसी वाले शिकायत करने वाले ग्राहकों के हाथ पैर जोड़ रहे हैं और अपनी शिकायत वापस लेने को कह रहे हैं लेकिन ग्राहकों ने गैस एजेंसी को सबक सिखाने का मन बना लिया है क्योंकि गैस चोरी एक एजेंसी पर नहीं बल्कि 90 फ़ीसदी एजेंसी वाले कर रहे हैं, जब तक इन लोगों को सबक नहीं सिखाया जाएगा, ये गरीब ग्राहकों को लूटते रहेंगे.

कैसे करें चोर गैस एजेंसियों की शिकायत
  • अगर हो सके तो पुलिस में FIR करें, 
  • पुलिस शिकायत ना सुनें और अगर जिलाधिकारी इमानदार हो तो उससे शिकायत करें
  • @MoPNG_eSeva या @dpradhanbjp पर ट्वीट करें और पूरी शिकायत लिख भेजें
  • जिस कंपनी की गैस हो उसकी वेबसाइट पर जाएँ और Distributer की शिकायत करें
  • आपकी गैस कॉपी पर शिकायत नंबर लिखा होता है, उसपर शिकायत करें
  • सिलेंडर रिफिल के बाद एक पर्ची मिलती है, उसके पीछे एक नंबर लिखा होता है, उसपर फोन करें और शिकायत कर दें
उपरोक्त कोई भी तरीके से गैस एजेंसी वालों की शिकायत की जा सकती है, अगर आपके नजदीक की पुलिस इमानदार होगी तो वही एजेंसी वालों पर छापा मारकर एक्शन ले लेगी, अगर पुलिस शिकायत ना सुनें तो ऑनलाइन या फोन करके अपनी शिकायत करें. 
नीचे कमेन्ट बॉक्स में अपनी राय लिखें
पोस्ट शेयर करें और फेसबुक पेज LIKE करें
loading...

0 comments: