19 December, 2016

नोटबंदी बन गयी गरीबों के लिए वरदान, 10-20 रुपये किलो में जमकर खा रहे हैं आलू, मटर, प्याज, टमाटर


modi-notbandi-magic-vegetables-prices-decreased-poor-happy

New Delhi, 19 December: नोटबंदी से देश में भले ही कैश की किल्लत हो लेकिन इसका काफी फायदा भी हुआ है और ज्यादातर फायदा गरीबों को ही हुआ है। नोटबंदी से पहले इसी सीजन में 100-500 रुपये लेकर मंडी में जाना पड़ता था लेकिन अब 50-100 रुपये में ही आपको आलू, मटर, टमाटर, मिर्च, अदरक और धनिया मिल सकता है और आपका एक हफ्ते का खर्च चल सकता है। 

इस वक्त किसानों को भले ही नुकसान हो रहा हो लेकिन खाने वालों की मौज है, खासकर गरीबों की सबसे ज्यादा मौज है क्योंकि पिछले वर्ष इसी महीने में वे मटर खाने का सपना भी नहीं देख सकते थे, मटर 50-100 रुपये में थी लेकिन नोटबंदी के बाद इस वक्त मटर 10-20 (मंडी के दाम) रुपये में मिल रही है। आलू 8-10 रुपये प्रति किलो, टमाटर 10-15 रुपये प्रति किलो, प्याज 10-15 रुपये प्रति किलो, हरी मिर्च 10 रुपये पाव, अदरक 15 रुपये पाव मिल रहा है। हो सकता है कि आपकी गली का ठेलेवाला आपने कुछ रुपये ज्यादा ले ले लेकिन सब्जियों के दाम में 50 फ़ीसदी से भी अधिक की गिरावट है। 

नोटबंदी के बाद बैंकों में कैश ना मिलने से कुछ लोग भले ही मोदी सरकार से नाराज हो रहे हों लेकिन जब वे शाम को सब्जियां लेने जाते हैं तो मोदी सरकार से खुश हो जाते हैं और उनके गिले शिकवे दूर हो जाते हैं। इस वक्त 2000-5000 में एक आम आदमी का खर्च चल रहा है जबकि इससे पहले 10000-20000 रुपये में एक आम आदमी का खर्च चलता था। लोगों ने बचत करना सीख लिया है इसके अलावा मंहगाई भी कम हो गयी है।

आपने देखा होगा कि इससे पहले कांग्रेस महगाई का मुद्दा उठाती थी, जब टमाटर और प्याज के 40 रुपये से ऊपर हो जाते हैं तो कांग्रेस आसमान सर पर उठाकर मोदी सरकार को कोसना शुरू कर देती है लेकिन इस वक्त सब कुछ सस्ता है तो कांग्रेस भी मंहगाई के मुद्दे हो नहीं उठा रही है। जब सब्जियों के दाम बढ़ते हैं तो कांग्रेस कहती है कि मोदी ने मंहगाई बढ़ा दी, गरीब मर रहा है लेकिन जब सब्जियों के दाम घट गए हैं तो कांग्रेस नहीं कह रही है कि 'मोदी ने महगाई घटा दी है, गरीब मौज कर रहा है। 
पोस्ट शेयर करें
loading...

0 comments: